Saturday, 18 November 2017

रहस्मयी दीपक - रश्मि

रहस्मयी दीपक
रश्मि

वैसे तो कोई भी दीपक सामान्यतः कुछ ही घंटों तक जल सकता है परंतु कुछ ऐसे भी दीपकों का उल्लेख मिलता है जो सैंकडों वर्षों से जल रहे थे और उत्खनन के दौरान जलते हुए ही मिले मिले थे। परंतु, लोगों की छेडछाड के कारण वे बुझ गए। ये दीपक आज भी अबूझ पहेली बने हुए हैं। देखते हैं भविष्य में इनके रहस्य पर से कब परदा उठता है।

चौथी शताब्दी में पैदा हुए ईसाई संत अगस्टाईन ने एक ऐसे दीपक का उल्लेख किया है जो एक मंदिर के खुले प्रांगण में सतत जलता रहता था और किसी भी आंधी, तूफान या वर्षा का उस पर कोई प्रभाव नहीं पडता था। 1550 ई. में इटली के निसिदा टापू में कुछ किसानों को उत्खनन में एक ऐसा दीपक मिला था, जो कांच के बर्तन में बंद था और उसमें से तेज रोशनी निकल रही थी और यह एक हजार वर्ष से जल रहा था। प्रसिद्ध इतिहासकार लिसेटर्स ने भी पिछले 500 से भी अधिक वर्षों से निरंतर जल रहे एक दीपक का वर्णन किया है जो चांदी और सोने से बनाया हुआ था तथा मिट्टी के एक बर्तन में बंद था। यह दीपक एक मकबरे के उत्खनन के दौरान मिला था। सन्‌ 1840 ई. में स्पेन के कोरदोबा नामक स्थान पर रोमन परिवार का एक मकबरा मिला था जिसमें परिवार के सभी सदस्य दफन थे। साथ में एक दीपक भी था पिछले हजारों वर्षों से जल रहा था।


यह अभी भी रहस्य ही बना हुआ है कि ये दीपक आखिर इतने लंबे समय तक किस प्रकार जलते रहे। इस बारे में वैज्ञानिकों ने अनेक अनुमान लगाए लेकिन कोई भी अनुमान तर्क की कसौटी पर खरा उतर नहीं पाया है। (संकलन)

No comments:

Post a Comment