Saturday, 28 November 2015

ऐसे थे भालजी पेंढ़ारकर

ऐसे थे भालजी पेंढ़ारकर

आजकल निर्माता-निर्देशक संजयलीला भंसाली की निर्माणाधीन फिल्म बाजीराव मस्तानी किसी ना किसी कारण से बडी चर्चा में है। परंतु, सबसे पहले दादासाहेब फालके पुरस्कार प्राप्त भालचंद्र गोपाल ऊर्फ भालजी पेंढ़ारकर ने आज से 90 वर्षपूर्व सन्‌ 1925 में इन ऐतिहासिक पात्रों बाजीराव-मस्तानी की अमर प्रेम कथा पर निर्मित एक फिल्म 'बाजीराव-मस्तानी" का निर्देशन किया था, जिसकी पटकथा भी उन्होंने ही लिखी थी। सिने जगत में उन्हें श्रद्धावश चित्र-तपस्वी कहा गया। चित्रपट सृष्टी खडी करने के लिए उन्होंने अथक प्रयास किए। सूर्य, शारदा, फेमस अरुण, कोल्हापूर सिनेटोन जैसी चित्र संस्थाओं के निर्माण में उनका महत्वपूर्ण योगदान था। इस कारण उन्हें चित्रपट विद्यापीठ कहा जाने लगा। भालजी ने 1932 से 1986 के बीच 45 सामाजिक और ऐतिहासिक चित्रपट दिए। हिंदी के पृथ्वीराज कपूर, दुर्गा खोटे, सुलोचना, ललिता पवार, दाद कोंडके, कृष्ण भूमिका के लिए विख्यात शाहू मोडक, रमेश देव, गजानन जहागीरदार जैसे अग्रणी कलाकारों ने भालजी के समर्थ दिग्दर्शन तले काम किया था।

राजकपूर जिन्हें भालजी से पहले ही दादा साहब फालके पुरस्कार मिला था। उन्हें फिल्म जगत में लानेवाले भालजी ही थे। उनकी फिल्म 'वाल्मिकी" में राजकपूर नारद बने थे और पिता पृथ्वीराज कपूर ने वाल्मिकी का रोल निभाया था। महारथी कर्ण (1944) चित्रपट में पृथ्वीराज और भालजी की जो वैचारिक जुगलबंदी थी वह भालजी के आत्मचरित्र 'साधा माणूस" में मूलतः ही पढ़ी जाए ऐसी है। मराठी चित्रपट जगत की तीन पीढ़ियां उनके दिग्दर्शन में तैयार हुई थी। जिसका उल्लेख वे कलाकार 'मैं भालजी की स्कूल का विद्यार्थी हूं" गर्व से कहकर करती रही। 1932 में बनी फिल्म 'श्याम सुंदर" भारत की पहली सिल्वर जुबली फिल्म थी। भालजी ने ही 1934 में पहली एनिमेशन फिल्म 'आकाशवाणी" बनाई थी। भालजी ने व्ही. शांताराम के लिए भी उदयकाल, रानी साहिबा, खूनी खंजर, जुल्म जैसी सफल फिल्में और गीत लिखे थे।

उनके आत्मचरित्र से ही ज्ञात होता है कि, पंडित मदनमोहन मालवीयजी के साथ भालजी काशी हिंदूविश्वविद्यालय के निर्माण में ठोस सहायता मिले के लिए छत्रपति राजाराम से मिले थे और उस जमाने में महाराज ने पं. मालवीयजी को एक लाख रुपये का दान दिया था। इसी प्रकार से भालजी डॉ. आंबेडकर के साथ महाराज से इतिहास प्रसिद्ध किला पन्हाला पर सैनिक शिक्षा के लिए एक भव्य अकादमी स्थापित की जाए के संदर्भ में मिलने पहुंचे। उस समय महाराज किसी से चर्चा कर रहे थे, बहुत देर हो जाने के कारण डॉ. आंबेडकर भालजी सहित महाराज से बिना मिले ही चले आए।  

14 वर्ष की आयु में उन्होंने कलकत्ता यात्रा की इस दौरान भगतसिंह के सहयोगी राजगुरु के संपर्क में आए और घनिष्ठ मित्र बन गए। वहां से लौटने के पश्चात 1917 में सेना में भर्ती हो गए और तीन वर्ष मराठा पलटन में रहे। उनकी हिंदुत्व पर अगाध निष्ठा थी। लोकमान्य तिलक और बाबाराव सावरकर (वीर सावरकर के बडे भाई) के सान्निध्य में वे रहे। तिलक, वीर सावरकर और शिवाजी उनके श्रद्धास्थान थे। युवावस्था में कुछ समय उन्होंने तिलक के समाचार पत्र 'केसरी" में काम किया था। जिससे उनकी राष्ट्रीय चेतना विकसित हुई। बाबाराव सावरकर के मार्गदर्शन में उन्होंने भारत की स्वाधीनता के लिए कार्य किया। स्वधर्म, स्वभाषा, स्वदेश  पर उनकी अगाध श्रद्धा थी। 1927 में जब वंदेमातरम्‌ बोल देना भर भयंकर अपराध माना जाता था भालजी ने 'वंदेमातरम आश्रम" नामकी फिल्म जिसमें गुरुकुल पद्धति से शिक्षा का समर्थन था बनाई जिस पर ब्रिटिश सेंसर ने सात बार कैंची चलाई। विरोधस्वरुप भालजी ने यह फिल्म फिर प्रदर्शित ही नहीं की। भालजी ऐतिहासिक फिल्मों के प्रणेता थे। उन्होंने 'छत्रपति शिवाजी", मराठी तथा हिंदी में बनाई थी। ऐतिहासिक फिल्मों द्वारा उन्होंने राष्ट्र के स्वाभिमान को सशक्त स्वर दिया। सामाजिक जीवन को अभिव्यक्ति देने के लिए उन्होंने ग्रामीण जीवन का यथार्थपरक चित्रण भी अपनी फिल्मों में किया था। 

शिवाजी पर उनकी कितनी श्रद्धा थी यह इस प्रसंग से मालूम पडता है। कोल्हापूर के मध्यवर्ती चौक में गव्हर्नर सर लेस्ली विल्सन का पुतला था। सन्‌ 1942 के आंदोलनकारियों ने इस सफेद पुतले को काला पोतकर कोल्हापूर में हलचल मचा दी थी। बाद में इस पुतले को सुरक्षा बलों की उपस्थिति होने के बावजूद आंदोलनकारियों ने तोड डाला। शासन ने इस पुतले को वहां से हटाने का निर्णय लिया। भालजी ने वहां छत्रपति शिवाजी का पुतला लगाना तय किया। जनता का समर्थन हासिल करने के लिए एक मुहिम छेडी। शिवाजी महाराज का पुतला खडा करना यह कोल्हापूर की अस्मिता और स्वाभिमान का प्रश्न है यह भालजी का विचार लोगों को पसंद आया। समाचार पत्रों ने भी अपना समर्थन दिया। कोल्हापूर के हिंदू चीफ इंजीनिअर भी सहमत थे परंतु यह बात उनके अधिकार क्षेत्र के बाहर की होने के कारण उनकी सलाह पर अंग्रेज रेसिडेंट कर्नल हेरिसन से भालजी मिले।

कर्नल हेरिसन ने कहा कि आपको क्यों लगता है कि ब्रिटिश सरकार आपके प्रस्ताव को स्वीकार लेगी। क्या इसीलिए आपने सर लेस्ली के पुतले को तोडा था। भालजी ने प्रतिवाद किया कि निराधार आरोप ना लगाएं। जिसने तोडा है उसे पकडें। कर्नल ने इस पर कहा कि हम दोबारा सर लेस्ली का पुतला वहां लगाएंगे। भालजी का उत्तर था अवश्य आप कर सकते हैं परंतु इस पुतले को फिर से तोडा नहीं जाएगा ऐसा आपको लगता है क्या? आगे उन्होंने कहा - मैं एक कलाकार हूं कला निर्मिती मेरा जीवन है किसी को मैं बदसूरत कर नहीं सकता। वे चित्रपट व्यवसायी हैं राजनीतिज्ञ नहीं वे यह कार्य केवल शिवाजी पर श्रद्धावश कर रहे हैं। कर्नल अनुकूल हो गया और शिवाजी महाराज का पुतला खडा कर दिया गया।

जब पंडित मदनमोहन मालवीय और डॉ. हेडगेवार के आधिपत्यतले हिंदू महासभा का आंदोलन आरंभ हुआ तब बाबाराव सावरकर की प्रेरणा के कारण वे हिंदू महासभा में शामिल हुए और दक्षिण हिंदुस्थान की हिंदू महासभा के प्रमुख के रुप में काम करने लगे। बाद में वे रा. स्व. से. संघ से आजीवन जुडे रहे। डॉ. हेडगेवारजी ने भालजी की फिल्म 'भगवा झंडा" का उद्‌घाटन भगवा ध्वज  फहराकर किया था। इस फिल्म में शिवाजी महाराज की संगठन क्षमता का उत्कृष्ट प्रदर्शन था। अंग्रेज सरकार ने इस फिल्म को प्रतिबंधित कर दिया था।

Thursday, 19 November 2015

टीपू सुलतान का मूल्यांकन हो

टीपू सुलतान का मूल्यांकन हो

सन्‌ 1707 में औरंगजेब की मृत्यु के पश्चात मुगल साम्राज्य रसातल को जाने लगा और धीरे-धीरे तीन शक्तियों का उदय हो गया। मराठा, सिक्ख और ब्रिटिश, इनमें मराठे सबसे प्रबल थे। 1757 में प्लासी की लडाई जीतकर अंग्रेजों ने अपनी रणनीति सफल कर दिखाई थी। मुसलमानों का एकमात्र ध्येय इस्लाम था और इसीको सामने रख शाहवलीउल्लाह ने अफगानिस्तान के अमीर अहमदशाह अब्दाली को हिंदुस्थान पर आक्रमण के लिए निमंत्रित किया था। 1761 में अब्दाली आया और पानीपत के युद्ध में मराठों को करारी हार का सामना करना पडा। प्लासी की लडाई का स्पष्ट परिणाम 1764 में बक्सर की लडाई जो मुख्यतः अयोध्या के नवाब और ब्रिटिशों में हुई थी के बाद नजर आया। ब्रिटिशों का आधार अधिक ही विस्तृत हो गया और स्पष्ट हो गया कि मराठे नहीं अंग्रेज ही भारत के अधिपति बनेंगे। 1803 में मराठे भी अंग्रेजों से पराजित हो गए और दिल्ली का बादशाह अंग्रेजों की कठपुतली बनकर रह गया साथ ही अब मुस्लिमों के शत्रु क्रमांक एक अंगे्रज हो गए।

इस प्रकार से जब उत्तर भारत के मुसलमान ब्रिटिश विरोधी भावना से आंदोलित हो रहे थे। दक्षिण में ब्रिटिश सत्ता को आव्हान देने के लिए धर्मवीर टीपू सुलतान (1740-99) का 1782 में उदय हुआ और ब्रिटिशों से लडते हुए वह शहीद हुआ। उसकी कब्र पर लिखा हुआ है 'टीपू सुलतान ने पवित्र जिहाद किया और अल्लाह ने उसे शहीद का दर्जा प्रदान किया।" अब प्रश्न यह उठता है कि वह ब्रिटिशों के विरुद्ध क्यों लड रहा था? और ब्रिटिशों को निकाल बाहर करने के बाद कौनसा राज्य लानेवाला था? टीपू कोे अंगे्रजों के साथ मराठों और धर्मबंधु निजाम से भी लडना पडा था और निजाम ने कई बार गैरमुस्लिम सत्ताओं से गठबंधन भी किया था इस कारण इस संघर्ष में धर्म का कोई संबंध नहीं था यह दिशाभ्रम होने की संभावना है इसलिए इस संघर्ष में निजाम के संबंध में टीपू की भूमिका क्या थी यह उसने निजाम को भेजे पत्र में स्पष्ट होती है।

निजाम को भेजे एक पत्र में टीपू इस्लामी बंधुभाव का आवाहन करते हुए लिखता है कि ''ब्रिटिश अपने को भुलावे में रखकर एकत्र आने नहीं दे रहे हैं। अगर अपन दोनो एकत्रित आ गए तो अपने पर हमला करने का साहस मराठे कभी भी नहीं जुटा सकेंगे।"" इस प्रकार की एकता के लिए उसने निजाम से पूर्व में जीता प्रदेश उसे वापिस देने का प्रस्ताव रखा और निजाम के खानदान से विवाह संबंध करने की तैयारी दिखलाई परंतु, निजाम तैयार नहीं हुआ। टीपू ने दिल्ली दरबार के एक निकटस्थ व्यक्ति को पत्र लिखकर विनती की कि, वह निजाम से आग्रह करे कि इस्लाम के उत्कर्ष के लिए अपन एकजुट हों। धर्म के प्रमुख होने के कारण पैगंबर के धर्म को प्रोत्साहित करना हमारे लिए बंधनकारक है। निजाम के दामाद और अधौनी के सूबेदार महाबतजंग को लिखा था कि ''निजाम काफिरों (मराठों) के पक्ष में है यह अनुचित है।""

इसी इस्लामी ध्येय को सामने रखकर उसने दिल्ली के बादशाह शाहआलम को लिखा था कि, ''यह इस्लाम का नम्र सेवक वर्तमान में ईसाइयों (यहां टीपू ने 'ब्रिटिश" या 'अंग्रेज" न कहते भान रखकर 'ईसाई" कहा है) का विद्रोह कुचल डालने के काम में लगा हुआ है ... अल्लाह पर श्रद्धा रखकर इस्लाम का यह सेवक गैरइस्लामी शक्तियों के विरुद्ध लडाई लडकर उन्हें नष्ट करने का विचार कर रहा है।"" मुगल दरबार के एक उच्च पदस्थ व्यक्ति मुहम्मद बेग को उसने लिखा था कि, ''तुम्हें यह निश्चित रुप से ज्ञात ही होगा कि, इस तुम्हारे मित्र ने भ्रष्ट ईसाइयों को किस प्रकार से कुचल डाला है। वर्तमान में मैं ऐसे कुछ मुस्लिम राज्यकर्ताओं का विद्रोह कुचलने में लगा हूं कि जो इस्लाम के विरुद्ध ईसाइयों की ओर से हो गए हैं। इस संदर्भ में मैंने पूरे देशभर में हस्तपत्रक बांटे हैं जिनमें इस्लामसंबंधी कर्तव्य और पैगंबर की हदीसें (उक्तियां और कृतियां) समाविष्ट की हुई हैं। उसकी एक प्रति तुम्हें भेज रहा हूं। इस्लाम की रक्षा और उत्कर्ष के लिए अपन सब लोगों को एकत्रित आने की और पूरी ताकत से ईसाइयों के आक्रमण को आव्हान देने की नितांत आवश्यकता है ... अभी भी यदि सभी मुस्लिम एकत्र आ जाएं तो इस्लाम का गतवैभव प्राप्त होना संभव है।""

परंतु, भारत के सभी मुसलमानों को एकत्रित न कर सकने के कारण उसने सैद्धांतिक रुप से विश्व के सारे मुस्लिमों के राजनैतिक और धार्मिक प्रमुख तुर्कस्तान के विश्व के खलीफा सलीम से सैनिक सहायता लेना तय किया। जिस प्रकार से विश्व के सारे मुस्लिम राजा अपने राजापद को कानूनी मान्यता मिले इसलिए खलीफा से मान्यतादर्शक राजवस्त्र मंगाते थे वैसे ही वस्त्र पाने के लिए उसने 1776 में 900 लोगों के एक शिष्टमंडल के साथ दसलाख रुपये और हीरेजवाहरात, चार हाथी की भेंट के साथ ही एक पत्र भी उनके साथ भेजकर उसमें लिखा था ः ''इस देश में ईसाइयो से हमारी लडाई चल रही है। इस सर्वोच्च काम में हम आपकी सहायता मांग रहे हैं।"" शत्रुओं को कुचलने और इस्लामी मूल्य कायम रखने के लिए चल रहे प्रयत्नों में आप सहायता करें। ैआगे वैश्विक इस्लाम की चिंता करते हुए उपाय के रुप में लिखा ः ''ब्रिटिशों की कारवाइयों के विरुद्ध भारतीय मुस्लिमों की ओर से संघर्ष करना मेरा कर्तव्य ही है, परंतु मुझे लगता है कि, सारे इस्लामी विश्व के लिए जिहाद अतिअनिवार्य हो गया है। हमारा ध्येय इस्लाम के श्रेष्ठत्व को ऊंचा रखना ही है, केवल हमारे देश की रक्षा करना ही नहीं!"" ... अंतरराष्ट्रीय परिस्थितियों के कारण खलीफा  अपने धर्मबंधु का प्रस्ताव स्वीकार न कर सका परंतु उसने राजवस्त्र और उसके नाम से खुत्बा पढ़ने और सिक्का ढ़ालने का अधिकार अवश्य दे दिया। मुगल बादशाहों ने कभी भी ऐसे वस्त्र नहीं मंगाए थे वे स्वयं को ही सम्राट समझते थे इस प्रकार टीपू का दर्जा धार्मिक दृष्टि से मुगल बादशाह से ऊंचा हो गया। 

खलीफा से भले ही सहायता नहीं मिली परंतु फिर भी उसने अफगानिस्तान के अमीर जमानशाह को पत्र लिखा ः ''हम हमेशा ही प्रार्थना करते हैं कि धर्म के आधार पर (विश्व के) सभी मुस्लिम राज्यकर्ताओं में सामंजस्य और एकता निर्मित हो। वर्तमान में हम बडी विकट स्थिति में हैं। इस्लाम विरोधी शक्ति हमारे विरोध में लडने की तैयारी कर रही है अतः हम आपके पास (सैनिकी) सहायता के लिए तरस खाने की विनती कर रहे हैं। हमें आशा है कि आप इस धर्मयुद्ध में हमारी सहायता करेंगे।"" उसने 20000 घुडसवारों की मांग की थी। जमानशाह ने उत्तर दिया ''इस्लाम विरोधी शक्ति इस्लामी साम्राज्य नष्ट करने की तैयारी में होने के कारण हम तुम्हें अपना समर्थन जाहीर करते हैं। तुम्हारा देश मूर्तिपूजा और इस्लाम बाह्य बातों से शुद्ध करने के लिए हम प्रचंड सेना लेकर तुम्हारी सहायता के लिए आ रहे हैं।"" वह 33000 की फौज लेकर निकला लेकिन अंग्रेजों द्वारा ईरान के सम्राट को दिशाभ्रम कर अफगानिस्तान पर हमले के लिए उद्युक्त कर दिए जाने के कारण भारत की सरहद तक पहुंच चुके अमीर को वापिस लौटना पडा। इसके बाद टीपू ने ईरान के सम्राट को भी पत्र लिखा परंतु ईरान युद्धजन्य परिस्थितियों के कारण कुछ न कर सका।

इस प्रकार तीनों बडी मुस्लिम साम्राज्य की शक्तियां जिहाद के लिए टीपू के काम न आ सकी। 1786 में टीपू ने एक राजाज्ञा निकालकर ब्रिटिश प्रांतों के मुस्लिमों को अपने इस्लामी राज्य में आकर स्थायी होने का आवाहन किया था। इसमें कहा गया था ः ''मुस्लिमों को श्रद्धाहीनों के देश से निकल जाना चाहिए (यह हिजरत का सिद्धांत है) और जब तक (टीपू) सुलतान वहां के बदमाश श्रद्धाहीनों को इस्लाम में ले नहीं आएगा अथवा उन्हें जजिया देने के लिए बाध्य नहीं कर देगा तब तक देश के बाहर ही रुकना चाहिए ... हमारा हेतु श्रद्धाहीनों के विरुद्ध जिहाद करना है।"" मुसलमानों में जिहाद की प्रेरणा निर्मित करने के लिए उसने एक पुस्तक प्रकाशित की थी 'फतह उल मुजाहिदीन" (धर्मयोद्धाओं की विजय) उसमें स्पष्ट किया था कि इस्लाम की विजय के लिए आक्रमक श्रद्धाहीनों के विरुद्ध जिहाद करना ही सच्चा इस्लाम है। 

वह विशुद्ध इस्लाम का कट्टर समर्थक था। शाह वली उल्लाह के विचारों का उस पर बडा प्रभाव था। ""अनेक शताब्दियों से हिंदुओं के सान्निध्य के कारण अनेक प्रकार की इस्लाम बाह्य विधियां एवं प्रथाएं घुस गई थी, धर्म में अनेक नई बातें आ गई थी, इन सबसे मुसलमानों को मुक्त करना उसका ध्येय था।"" ''वह इस्लाम के राजनैतिक वर्चस्व के लिए लड रहा था।"" ''उसे इस्लामी राज्य चाहिए था।"" ''विश्व में इस्लाम किस प्रकार वर्चस्वशाली बनेगा इसीकी उसे चिंता लगी रहती थी।"" संक्षेप में कहें तो शाहवलीउल्लाह को जिस प्रकार का खलीफा चाहिए था वैसा ही वह था।

टीपू की प्रशंसा भारत की स्वतंत्रता का योद्धा के रुप में की जाती है। क्योंकि, वह अंग्रेजों के विरुद्ध लडा था। अब यहां कुछ प्रश्न उपस्थित होते हैं। वास्तव में टीपू को यदि सचमुच अंगे्रजों को निकाल बाहर करना था, उनके वर्चस्व से देश को मुक्त कराना था तो वह हिंदुओं के विरुद्ध शस्त्र उठाता ही नहीं। वह क्या चाहता था उसकी विशिष्टता ऊपर बयान की ही जा चूकी है। ब्रिटिशों को निकाल बाहर करना इतनी ही बात स्वतंत्रता का योद्धा होने के लिए पर्याप्त है क्या? हां, ब्रिटिशों की बजाए मुस्लिमों का इस्लामी राज्य भारत में आ जाता तो मुस्लिमों की दृष्टि से स्वतंत्रता होती परंतु, हिंदुओं की दृष्टि से क्या होती? दूसरी महत्वपूर्ण बात- स्वतंत्रता की लडाई कब शुरु हुई यह समझें? उसका उत्तर एक ही है ः स्वतंत्रता गंवाने के बाद। टीपू अंग्रेजों के विरुद्ध लडा, परंतु टीपू मरने तक स्वतंत्र ही था। उसने अंगे्रजों से फौजें तैनात करने का समझौता नहीं किया था। निजाम ने सन्‌ 1800 में और दूसरे बाजीराव पेशवा ने वसई समझौते के द्वारा 1802 में अपनी स्वतंत्रता गंवाई। इस कारण हैदराबाद की स्वतंत्रता की लडाई की शुरुआत 1800 से और पश्चिम महाराष्ट्र की सन्‌ 1802 से समझना चाहिए। टीपू के पिता हैदरअली ने राज्य स्थापित किया और अंगे्रज-मराठा युद्ध में मराठों से सहयोग कर हैदरअली लडा। परंतु, अंग्रेज-मराठा युद्ध को कोई स्वतंत्रता की लडाई नहीं कहता। क्योंकि, मराठे क्या और हैदरअली क्या दोनो ही स्वतंत्र थे, अंग्रेजों के अधीन नहीं थे। उनकी लडाई को स्वतंत्रता की लडाई भला कैसे कहा जा सकता है? ठीक इसी प्रकार से टीपू स्वतंत्र के रुप मेंं लडा और स्वतंत्र रहते ही मरा, यह प्रशंसनीय है परंतु वह स्वतंत्रता संग्राम का योद्धा नहीं।

टीपू का चरित्रकार किरमानी ने टीपू के चरित्र में उसकी कट्टर इस्लामी निष्ठा और अन्य धर्मों के संबंध में घृणा का वर्णन किया हुआ है। 'अन्य धर्मियों के संबंध में टीपू को अत्यंत नापसंदगी थी प्रत्युत तिरस्कार ही था, ऐसा कहें तो भी चलेगा।" वास्तव में देखें तो टीपू के राज्य का आधार ही अस्थिर था। मराठों का राज्य जिन अर्थों से राष्ट्रीय कह सकते हैं वैसा टीपू का नहीं था। राष्ट्रीय इन अर्थों में कि मराठों की सत्ता की जडें मूल समाज में थी, वैसी टीपू की नहीं थी। बहुसंख्य समाज उसकी सत्ता से कभी भी एकरुप हो नहीं पाया और वह एकरुप हो इसके लिए टीपू ने प्रयत्न भी नहीं किए। हैदर ने परिस्थितियों का फायदा उठाकर अपनी ताकत बढ़ाई थी परंतु स्थानीय जागीरदार, नवाब उसके राज्य में असंतुष्टों के रुप में बचे ही रहे थे और विदेशी धर्मबंधुओं पर दारोमदार रखनेवाला टीपू उनका समावेश अपनी सत्ता में कर न सका और मौका मिलते ही वे अंग्रेज, मराठा और निजाम से जा मिले। 

टीपू ने एकनिष्ठ ऐसा एक सुरक्षा पथक बनाने के लिए खालिस मुसलमानों को भर्ती करना प्रारंभ किया। अपने पथक के बारे में वह बोलता था 'दर जुंभराए सा गम न बाशद" (मेरे हुजुरात में शोक नहीं) परंतु अर्थ कुछ ओर ही निकलता था। गम का 'ग" यानी हुजरात में गेर (परदेशी) नहीं चाहिए। 'म" यानी मोगल; मराठा, 'न" मतलब नवायत यानी कोकणी मुसलमान, 'ब" यानी ब्राह्मण, 'अ" यानी अफगान, 'श" यानी शिया और 'द" यानी मेदवी पठान नहीं चाहिए। उसने केवल शेख और सय्यदों को ही लिया इस कारण सेना में असंतोष फैल गया। परिणाम वही हुआ जो होना चाहिए। अंत में टीपू अंगे्रजों के हाथों मारा गया परंतु अंग्रेजों के हाथों मारे जाने के कारण उसके आस-पास हुतात्मा होने का वलय निर्मित हो गया। इकबाल ने टीपू के संबंध में कहा है ः 'धर्म और पाखंड (दीन और काफिर) के प्रचंड संघर्ष में हमारे तरकश का आखिरी तीर टीपू था।" सूज्ञ इस पर से टीपू का मूल्यांकन स्वयं ही करें। अंत में 'तमस" सीरियाल का यह वाक्य उद्‌धृत कर रहा हूं - 'जो इतिहास भूलते हैं, उनके माथे पर पुनः वैसा ही इतिहास लिखा जाता है।" 

Sunday, 8 November 2015

दीपोत्सव - एक अंतरराष्ट्रीय पर्व

दीपोत्सव - एक अंतरराष्ट्रीय पर्व


भारत में ही नहीं संसार के अनेक देशों में भी दीपावली का पर्व विभिन्न नामों और रुपों में मनाया जाता है। वर्तमान में चीन अपने आर्थिक संकट के कारण बडी चर्चा में है। वहां भी दीप पर्व बडे उत्साह के साथ मनाया जाता है और उसका अपना इतिहास है तथा उसे 'श्वान श्याओच्ये" कहा जाता है। चीन में दीपोत्सव ई. पू. हान राजवंश (ई.पू. 202 से सन्‌ 258) के काल से ही मनाया जाता रहा है। दरवाजों पर 'मेन-शेन" (द्वार देवता) के चित्र अंकित रहते हैं। यह परंपरा तांग राजवंश के सम्राट ताइत्सुंग (सन्‌ 627 से 649ई.) के काल से आरंभ हुई। इसके सातसौ वर्ष पश्चात मिंग राजवंश (सन्‌ 1368 से 1644) के काल में 'नईन हुआ" के चित्र चिपकाए जाने लगे जो मांगलिक माने जाते हैं। दरवाजों पर शुभ-लाभ, धन-धान्य बढ़े, दीर्घजीवी हों जैसे स्वस्ति वाचक शब्द अंकित रहते हैं। यह पर्व तीन दिन तक मनाया जाता है और इसे राजकीय तौर पर भी बडी धूमधाम से मनाया जाता है। तीन दिन की सरकारी छुट्टियां रहती हैं। द्वीपो के देश जापान में दीवाली 'तोरोनागाशी" के रुप में घर-घर दीप (लालटेन के रुप में) जलाकर तीन दिन तक मनाई जाती है। जापानियों का विश्वास है कि इस दिन उनके पूर्वज घर आकर उन्हें आशीर्वाद प्रदान करते हैं। अतः दीप जलाकर वे पितरों का मार्गदर्शन करते हैं।


सुमात्रा, बाली, जावा, फिजी, मारीशस, त्रिनिनाड, सूरीनाम, ब्रिटिश गुयाना आदि देशों में जहां प्रवासी भारतीयों का बाहुल्य है यह पर्व भारत के समान ही मनाया जाता है। भारत के पडौसी देश श्रीलंका में दीपावली राष्ट्रीय त्यौहार है। दीपक को लक्ष्मी मानकर पूजन किया जाता है। नेपाल में भारत के समान ही पांच दिन तक दीपावली मनाई जाती है। दीप जला भगवती की पूजा की जाती है। म्यांमार (ब्रह्मदेश या बर्मा) में प्रकाश पर्व का नाम तंडीजू है। बर्मा का प्रत्येक घर दीपों के प्रकाश से जगमगा उठता है। रंग-बिरंगी बंदनवार बांधी जाती है, आतिशबाजी की जाती है, भांति-भांति के कंडील लगाए जाते हैं। वहां पर दीपावली इस मान्यता के साथ मनाई जाती है कि भगवान बुद्ध इसी दिन ज्ञान प्राप्त कर पृथ्वी पर उतरे थे।


थाईलैंड में दीपावली को क्रेथोंग के नाम से पुकारते हैं। इस दिन वहां के निवासी अपने-अपने घरों को और विशेष रुप से मंदिरों को दीपों से प्रकाशित करते हैं तथा पत्तों के बने दीपकों को झीलों-नदियों में प्रवाहित करते हैं, बच्चे आतिशबाजी करते हैं। जलदेवी को प्रसन्न करने के लिए यह उत्सव मनाया जाता है। इजिप्त में तीन दिनों तक मनाया जानेवाला प्रकाश पर्व बहुत पुराना त्यौहार है। मिस्त्र के शासक फरोह बादशाह अपने को सूर्यवंशी कहते थे। अतः धरती पर सूर्य को उतारने के लिए हर वर्ष तीन दिन तक प्रकाश पर्व मनाते थे। रात में दीपों से प्रकाशित नौकाएं नील नदी के वक्ष पर तैरती थी। इजराईल में हनुकाह के नाम से प्रकाशोत्सव मनाया जाता है। यहूदी कैलेंडर के नवें माह में आठ दिन तक मोमबत्ती का प्रकाश करते हैं। 2100 वर्ष पूर्व सीरायाई सेना पर विजय के उपलक्ष्य में मनाया जाता है।


उपर्युक्त सब बातें दीपोत्सव की विश्वव्यापकता पर प्रकाश डालती हैं। भारत में तो विभिन्न कारणों से यह दीपमालिका पर्व इतने बडे स्तर पर मनाया जाता है कि इसे सच्चे अर्थों में राष्ट्रीय पर्व ही कह सकते हैं।

Saturday, 24 October 2015

अत्यंत प्राचीन है भारत में गुप्तचर विज्ञान

अत्यंत प्राचीन है भारत में गुप्तचर विज्ञान

गुप्तचर व्यवस्था के संबंध में विश्व प्रसिद्ध सेनानायक नेपोलियन बोनापार्ट का कहना था कि ठीक स्थान पर एक गुप्तचर बीस हजार सैनिकों के बराबर होता है। यह उल्लेख इसलिए कि वर्तमान में प्रत्येक राष्ट्र सैनिक शक्ति के समान ही गुप्तचर व्यवस्था को भी उतना ही महत्व दे रहा है। संसार की सभी प्राचीन सभ्यताओं में गुप्तचरी का उल्लेख मिलता है। गुप्तचर व्यवस्था के महत्व को हमारे पूर्वजों ने भी समझा था। संसार की अन्य सभ्यताओं में जहां गुप्तचरी का प्रयोग मात्र राजा के हित संवर्धन और रक्षार्थ किए जाने के निर्देश मिलते हैं वहीं भारत के सभी ग्रंथों में प्रजा के हित संवर्धन को महत्व दिए जाने के निर्देश हैं। भारत के सभी प्राचीन ग्रंथों ऋगवेद, अथर्ववेद, मनु स्मृति से लेकर पुराणों तक में इस व्यवस्था के संंबंध में प्रत्यक्ष या परोक्ष वर्णन मिलते हैं। रामायण और महाभारत में भी गुप्तचर व्यवस्था का उल्लेख मिलता है। हरिवंश पुराण में 'बाणासुर प्रसंग" में एक उल्लेख मिलता है, जिसमें लिखा गया है कि अनिरुद्ध जब गुप्त रुप से बाणासुर की कन्या के महल में पहुंचे और उषा-अनिरुद्ध मिलन हो गया तो,बाणासुर के महल में कार्यरत गुप्तचरों ने उसे उक्त घटना को बतला दिया। 

रामायण काल में अत्यंत उच्च कोटी की गुप्तचर व्यवस्था थी। राम और रावण की गुप्तचर व्यवस्था में भी बहुत अंतर था। जहां राम के गुप्तचर विद्वान और नीति का अनुसरण करनेवाले होकर सदाचारी और शालीन व्यवहारवाले थे, वहीं रावण के दूत कपटी और मायावी होकर धोखेबाज भी थे। रामायण में गुप्तचरी के दो उद्देश्य बतलाए गए हैं। 1. आत्मरक्षा, 2. राष्ट्र रक्षा। इन उद्देश्यों को प्राप्त करने के लिए राजा को चाहिए कि वह अपने गुप्तचरों द्वारा सतत न केवल शत्रुओं के भेद मालूम करता रहे अपितु अपने कर्मचारियों से भी सावधान रहे। जो राजा इनका पालन नहीं करेगा निश्चित रुप से एक दिन वह स्वयं नष्ट हो जाएगा। मनु ने चर-व्यवस्था का उल्लेख करते हुए इसे 'रक्षाधिकृत" (पुलिस) के अंतर्गत बताते हुए दो भागों में बांटा है। प्रथम अपराध अनुसंधान विभाग दूसरा सामान्य पुलिस विभाग। इससे यह पता चलता है कि यह कहना कि अपराध विज्ञान आधुनिक विज्ञानों में सबसे नया विज्ञान है असत्य है। प्राचीन काल में अपराध अनुसंधान किस प्रकार किया जाता था इस संबंध में कई कथाएं मिलती हैं। 
इसी प्रकार जासूसी में आजकल महिलाओं का प्रयोग अत्यंत व्यापक हो गया है पर वह भी नया नहीं है। प्राचीन भारत में स्त्रियों का प्रयोग गुप्तचरी के लिए किया जाता था। अपराधियों को पकडने के लिए वेश्याओं का प्रयोग किया जबकि सुंदर एवं संचारिकाओं को शत्रु पक्ष में भेजा जाता था। जो राजपरिवार के सदस्यों को अपने रुप जाल में फांस ठिकाने लगाने के काम आती थी। विषकन्याओं का उपयोग राजाओं व राजपुरुषों  की हत्या के लिए किया जाता था। इसके अतिरिक्त राज्य के अंदर ही आम जनता के बीच गुप्तचरी के लिए गुप्तचर सुंदरियां सार्वजनिक भोजनालयों और मदिरालयों में भी कार्य करती थी।

हम पुनः चर (चरकार्य यानी गुप्तचरी) व्यवस्था पर आते हैं। अपराध अनुसंधान विभाग के कर्मचारी साधारण वेशभूषा में रहते थे और अत्यंत गुप्त रुप से विभिन्न प्रकार के अपराधियों की जांच करते थे। विभिन्न क्षेत्रों के लिए विभिन्न उप-विभाग हुआ करते थे। कौटिल्य चाणक्य ने भी कहा है कि भिन्न-भिन्न कार्यक्षेत्रों के लिए भिन्न-भिन्न चर विभाग होने चाहिएं।

मनु ने राजा के लिए निर्देश दिए थे कि, राजा रोज अपने गुप्तचरों के साथ बैठक करा करे व आवश्यक सूचनाएं प्राप्त करे और इस आधार पर अपने वरिष्ठ चरों के साथ विचार-विमर्श करे। गुप्तचरों की भर्ती अत्यंत सतर्कतापूर्वक करे तथा सत्यनिष्ठ, होशियार, बुद्धिमान विश्वासपात्र लोगों को ही नियुक्त करे। चाणक्य ने भी कहा है कि राजा एक गुप्तचर पर विश्वास न करे वरन्‌ भिन्न-भिन्न तीन गुप्तचरों द्वारा सूचना की पुष्टि हो जाने पर ही विश्वास करे। गुप्तचरों को पर्याप्त वेतन दिया जाना चाहिए जिससे कि वह परिवार की ओर से निश्ंिचत हो कार्य कर सके। गलत सूचना देने पर चर को दंडित करना चाहिए।

भारत में गुप्तचरी का सर्वप्रथम संकेत ऋगवेद में मिलता है। अथर्ववेद में भी ऐसे अनेक संकेत हैं। अथर्ववेद में वरुण को सहस्त्रनेत्र कहा गया है। अर्थात्‌ वरुण के सहस्त्रों (हजारों) गुप्तचर। गुप्तचर ही राजा के नेत्र होते हैं। उन्हीं के माध्यम से राजा पूरे समाज-प्रजा की सभी सूचनाएं प्राप्त कर उनका ध्यान रख सकता है। शत्रुओं और अपराधियों के बारे में सूचनाएं पाकर उचित न्याय कर सकता है। वेदों में गुप्तचारिणी सभा का भी उल्लेख है जो दस्युओं से संबंधित सूचनाएं देने का कार्य करती थी। स्त्री गुप्तचरों की परंपरा वैदिक काल में ही आरंभ हो गई थी। ऋषियों की तपस्या भंग करने के लिए आनेवाली अप्सराएं गुप्तचर नारियां ही तो थी।

Tuesday, 13 October 2015

दुर्गापूजोत्सव की परंपरा - इतिहास के झरोखे से

दुर्गापूजोत्सव की परंपरा - इतिहास के झरोखे से

सर्वत्र देवी दुर्गा 'शक्ति" का प्रतीक है। बंगाली मनुष्य के लिए तो दुर्गा मानो उनकी मॉं ही है। 'आमार मा" कहकर वे देवी दुर्गा के चरणों पर अपना मस्तक बडी श्रद्धा के साथ रखते समय भावविव्हल हो जाते हैं। स्वतंत्रता की लडाई के समय क्रांतिकारियों को इसी मॉं में भारत का दर्शन होता था। बंगालियों के भावविश्व में दुर्गा पूजा को जो अनन्य महत्व प्राप्त है उसकी पूर्वपीठिका के संबंध में अधिकतर लोग अपरिचित हैं उसीका यह थोडासा सिंहावलोकन है।


दुर्गापूजाोत्सव की परंपरा बडी मनोरंजक व कुछ अनपेक्षित भी है। बंगाली साहित्य में पहला उल्लेख पंद्रहवी शताब्दी के कृतिवास  के रामायण का संभवतः है। रावण को मारने के सभी प्रयत्न निष्फल होने पर राम ने यह आराधना की। देवी को जगाने के लिए राम ने 'अकालबोधन" (असमय जगाना) किया। यह संज्ञा आज भी प्रचलित है। इसका काल अश्विन शुद्ध षष्ठी से दशमी तक का कहा जाता है। दुर्गा के वर के पश्चात ही राम ने रावण को मारा। बंगाल में होनेवाली पूजा राम द्वारा की गई पूजा के समान ही होती है। कोलकाता में कुछ स्थानों पर यह पूजा और भी पंद्रह दिनों तक चलती है और उसका उद्यापन दीवाली की अमावस्या को होता है।
लगभग 200 वर्षों तक पूजा घर-घर में अपने सामर्थ्यानुसार की जाती रही और वह भी मूर्ती की न होकर घट या श्रीशालिग्राम शिला की। उत्सव का आडबंर अचूक किस समय आरंभ हुआ यह कहना जरा कठिन ही है। फिर भी नवद्वीप के राजा कृष्णचंद्र राय (1710-82) के काल में पहला ज्ञात महोत्सव संपन्न हुआ। 1757 में प्लासी की विजय के पश्चात कृष्णचंद्र ने लॉर्ड क्लाइव्ह को सूचित किया कि धूमधडाके से दुर्गा पूजा की जाए। उस जमाने में एक म्लेच्छ के हाथों पूजा होना असंभव ही था इसलिए राजा ने क्लाइव्ह की ओर से पूजा की। उस समय कुल खर्च 16 हजार आया था। ईस्ट इंडिया कंपनी की ओर से 12 हजार दिए गए थे। क्लाइव्ह ने पूरा समारंभ हाथी पर बैठकर देखा था। बहुत बडे भोज का आयोजन हुआ श्रीलंका और ब्रह्मदेश (म्यंमार) से नर्तकियां बुलवाई गई थी। संपन्नता का यह प्रदर्शन आगे भी बरसों तक जारी रहा।

सन्‌ 1956 में कर व्यवस्था पक्की हो गई इसीमें से जमीनदारों-मालगुजारों का एक नया संपन्न वर्ग अस्तित्व में आया। बाडिशा के सावर्ण राय चौधरी ने मात्र 1300 रुपये में पेशगी देकर लिए हुए तीन गांव बढ़ते-बढ़ते कोलकाता महानगर में तब्दील हो गए। कंपनी का कुसुम सौरभ चारों ओर महकने लगा। पारसी, अफगानी, हब्शी, रुसी आदि भी आने लगे। कोलकाता ने पैसे के पेड का रुप धारण कर लिया। सारा पांडित्य और हुनर यहां एकत्रित होने लगा। विलायत में यह कहावत प्रचलन में आ गई - 'गोइंग टू कोलकाता टू शेक द पगोडा ट्री"। अर्थात्‌ जिसमें दम है वह यहां आए और पैसा बनाए। इन सारे नवधनाढ्‌य लोगों ने दुर्गापूजा बडे पैमाने पर मनाना आरंभ कर दिया।

19 वी शताब्दी के प्रारंभ में कोलकाता की पूजा के वर्णन विस्तारपूर्वक अंग्रेजी समाचार पत्र छापने लगे और विलायत के समाचार पत्र भी उसी रौं में बहकर कुछ अद्‌भुत पढ़ने के लिए मिलेगा इसलिए छापने लगे। 1819 के 'कोलकाता जर्नल" के अंक में यह छपा था कि निकी नाम की गोरांगी जो कि उस जमाने की सबसे महंगी नर्तकी थी का नाच होगा। राजा रामचंद्र के घर की इस पूजा उत्सव की तुलना अरेबियन नाइट्‌स के शाही वातावरण से की गई थी। 1829 में लॉर्ड बैंटिक पत्नी सहित एक उत्सव में पधारे थे। उनका स्वागत 'गॉड सेव द किंग" के गान से किया गया था। (इसी वर्ष बैंटिक ने सती प्रथा बंद की थी) जमीनदार अपनी पूजा की ओर लोग आकर्षित हों इसलिए विज्ञापन दिया करते थे। जिसमें यह बतलाया जाता था कि फलां-फलां नर्तकी का नाच रखा गया है। पंचमी की सुबह से उत्सव शुरु होकर चारों ओर  हलचल मच जाती थी। हलवाइयों और फूल बेचनेवालों की परेशानी बढ़ जाती थी। जमीनदारों में स्पर्धा मच जाती थी। भोजन के लिए लगनेवाले केले के पत्ते बेचनेवाले, हमाल, भोइयों के भाव बढ़ जाते। ढ़ोल-ताशे बजानेवाले चौराहों पर ढ़ोल बजाते खडे हो जाते। उन्हें चार दिनों के लिए ठेके पर ले लिया जाता। रात-रात भर नाचना-गाना, भोज चलते। मैदानों में नाटक आदि चलते, खेल चलते, आतिशबाजी होती। दशमी को विसर्जन होता और बाद में स्नेह मिलन होता।

आगे चलकर नदिया, वर्धमान, नाटोर, शोभा बाजार के प्रसिद्ध उत्सवों की धूम कम होने लगी। 'ऊंची दुकान फीका पकवान"  वाली स्थिति जमीनदारों की हो जाने के कारण उत्सवों की बहार ढ़लान पर आ गई। जमीनदारों के आश्रितों और बेकार लोगों की भीड जिनको इस मौज-मजे की आदत पड गई थी उन्होंने चुप न बैठते सार्वजनिक आयोजन किए जाएं का हल निकाला। गुप्तीपाडा के बारह प्रतिष्ठों ने एकत्रित होकर चंदा कर यह पूजा प्रारंभ की इसलिए लोग इसे 'बारोवारी पूजा" कहने लगे। बारोवारी का यह उन्माद बहुत शीघ्र ही फैल गया। आज भी सार्वजनिक इस अर्थ से यह बारोवारी शब्द रुढ़ है।

मुहल्लावार केंद्र बन गए। चंदा वसूली चालू हो गई। नौबत यहां तक आ गई कि भद्र महिलाओं तक को रोककर इच्छित चंदा मांगा जाने लगा। चंदेबाजों की वाहियात बातों से बचने के लिए पैसे ना होने पर महिलाएं अपने गहने तक उन्हें सौंपने लगी। आपस में झगडे भी होने लगे। वैष्णवों और शाक्तों का बलि पर से झगडा होने लगा। विवाद हिंदुओ का और मध्यस्थता साहब बहादुर की। उसने फैसला दिया कि वैष्णव पहले पूजा करें फिर शाक्त करें। आज जिस प्रकार से ऊंची से ऊंची प्रतिमाओंें की और अवैध वसूली की होड मचती है वैसी उस जमाने में भी मचने लगी।

उस जमाने में किए जानेवाले पूजा उत्सवों का सबसे विकृत पहलू था - गोरे साहब बहादुर की चाटुकारिता। आज जिस प्रकार अपप्रवृत्तियों की आलोचना होती है वैसी उस जमाने में भी होती थी। गोरे साहब से पूजा करवाई जाती है की आलोचना समाचार पत्रों में भी छपती थी। आज ही के समान उस समय भी नाच-गाने के शोर-शराबे से पूजा की पवित्रता भंग होती है, कष्ट होता है की शिकायत बुजुर्ग लोग किया करते थे। कुछ ब्रिटिश भी इन उत्सवों के विरोध में थे। उनका मत था कि इस प्रकार की पागलपन भरी मूर्ति पूजा के समारोहों को प्रोत्साहन नहीं दिया जाना चाहिए, अंग्रेज अधिकारियों को इसमें शामिल नहीं होना चाहिए। वैसे आगे चलकर जब स्वतंत्रता की लडाई जोर पकडने लगी तो इन अंग्रेजों का महत्व कुछ कम होने लगा।

अंग्रेजी शिक्षा प्राप्त कुछ घमंडी डेढ़ गुजरे धनिक हिंदू चापलूसी की हदें लांघ जाते थे। अंग्रेज अधिकारियों को जो चाहिए वह परोसा जाता था। ऊंचे दर्जे की शराब, मांसाहारी पदार्थ यहां तक कि गोमांस तक। कुछ चापलूस देवी को खीर के साथ कॉफी-सेंडविच का भोग लगाते थे। उस समय प्रथा यह थी कि देवी की प्रतिमा के पीछे शिव पुराण के चित्र रंगे जाते थे। परंतु, ये चापलूस रानी व्हिक्टोरिया, परियों आदि के चित्र रंगते थे। यदि साहब ने बिछायत पर पेशाब कर दी तो कहा जाता 'हुक्के का गुलाब पानी ढुल गया होगा"।
परंतु, जिस प्रकार से कीचड में कमल खिलता है वैसे ही इन विकृतियों में से ही कुछ अच्छे का जन्म हुआ। इन दुरावस्थाओं की धज्जियां बंकिमचंद्र चटोपाध्याय ने उडाना आरंभ की। उन्होंने 'आमार दुर्गोत्सव" निबंध में दशप्रहरण धारिणी दुर्गा पुनः जनमानस में प्रतिष्ठित की। 'वंदे मातरम्‌" का महान मंत्र दिया। महान मनीषियों विवेकानंद, भगिनी निवेदिता, बिपीनचंद्रपाल, श्री अरविंद आदि ने देवी दुर्गा का तेजस्वी रुप देशबंधुओं के सामने रखकर जनता की आंखे खोल दी। सारा हीनत्व समाप्त हो गया। सारी धमाचौकडी का रुप बदलकर दुष्टों का निर्दालन करनेवाली देवी दुर्गा का तेजस्वी रुप स्थापित हुआ।

Wednesday, 26 August 2015

18 अगस्त पतेती - पारसी नूतनवर्ष

18 अगस्त पतेती - पारसी नूतनवर्ष
पारसीयों का भारत से संबंध 

ईरान या पर्शिया के निवासी पारसी और उनका साम्राज्य जोराष्ट्रियन और उनके पैगंबर का नाम जरतुष्ट्र। 651 में अरबों ने पर्शियन साम्राज्य को परास्त कर दिया। अरबों द्वारा अपने राज में ईरानियों का जबरदस्ती धर्मांतरण किया गया तब कुछ ईरानी निर्वासित होकर गुजरात में आए। आज के पारसी उन्हीं ईरानी निर्वासितों के वंशज हैं पर भारत में आए हुए ये पहले ईरानी नहीं। ईरान के सासानी घराने के कार्यकाल (ई. स. 226 से 651) में भी भारत और ईरान में व्यापारिक और सांस्कृतिक संबंध थे। इसके अलावा महाभारत, पुराणों, कालीदास के रघुवंश इन ग्रंथों में भी पारसिकों (पार्स. पारसा, सिका-शक) का उल्लेख आता है।  कालीदास ने लिखा है अपरांत (कोंकण, पश्चिमी समुद्रतट) जीतने के बाद रघु पारसिकों को जीतने निकला था। कुषाण साम्राज्य की पराजय के बाद यानी 4थी और 7वीं शताब्दी में इन गोरे पारसिक योद्धाओं ने सासानी घराने के सार्वभौमत्वतले राजस्थान से काश्मीर के दरम्यान एक साम्राज्य स्थापित किया था। गिरनार, कार्ला और नाशिक में मिले शिलालेखों में (पार्थव, पार्थियन) उल्लेख मिलता है। ई. पू. 126 पार्थियन सम्राट मिनिएंदर (ई. पू. 155-130) सौराष्ट्र पर राज्य किया था तो, पल्लव राजा बाद में कांजीपुरम के सम्राट बने थे। उन्होंने दक्षिण के तीन बडे राज घरानों में से एक की स्थापना की थी।

ईरान से निकला दूसरा गुट मागी पुरोहितों का जो सिस्तान (सकद्वीप) से निकले थे। दक्षिण मारवाड के माघ या भोजक ब्राह्मणों में वे घुल मिल गए। इन्हीं माघी या भोजक ब्राह्मणों ने हिंदुओं में सूर्योपासना आरंभ की। मुस्लिम इतिहासकार भी गवाही देते हैं कि, प्राचीन मध्य युग में भारत में ईरानी जोराष्ट्रीयन थे।

पारसियों के आरंभिक (भारत में बसने के) इतिहास के बारे में एकमात्र लिखित साक्ष्य है 'किस्सा-इ-संजान"। ''पारसी जब संजान के राजा जादी राणा के पास संजान में रहने की अनुमति लेने गए तब उसने पांच शर्तें डाली- 'राजा को जोराष्ट्रियन धर्म समझाकर बतलाएं, पारसी मातृभाषा के रुप में गुजराती को स्वीकारें, पारसी स्त्रियां साडी पहनें, पारसी अपने पास के सारे हथियार सरकार के पास जमा करें और अपने विवाह की बारातें रात के अंधेरे में निकालें। यह अंतिम शर्त, बहुधा निर्वासितों ने स्वयं द्वारा की हुई विनती पर डाली गई थी। इस परायी जमात की ओर अन्य जमातों का ध्यान आकृष्ट न हो यह इसके पीछे का उद्देश्य होना चाहिए। इस किस्से के अलावा गुजराती गर्बों, समूह गीतों, नृत्यों, आदि में ईरानी निर्वासित और राजा जाधव राणा की भेंट के बारे में विस्तृत विवरण मिलता है। इस प्रकार पारसी समुदाय दूध में घुली हुई शक्कर की भांति यहां रहने लगा।

सन्‌ 1200 में "नेरीओसांग धवल' नामके एक पारसी पुरोहित ने संपूर्ण 'अवेस्ता" (पारसियों का धर्मग्रंथ) का संस्कृत में रुपांतर किया। तत्कालीन हिंदू विद्वानों के सुविधा के लिए उसने यह उपक्रम किया होना चाहिए। नेरीओसांग द्वारा किया हुआ भाषांतर आज भी उपलब्ध है। पारसियों ने गुजराती भाषा के अध्ययन को भी बढ़ावा दिया। गुजराती भाषा में प्रकाशित पहला वृत्तपत्र था 'द बॉम्बे समाचार" (1822) फर्दुनजी मर्जबान उसके पहले संपादक थे। 

पारसियों ने भारत को तीन प्राचीन कारीगिरी-नक्काशी की देन दी है। वे हैं सुरतीघाट, गारो और तनचोई। गारो और तनचोई मूलतः चीनी हुनर है। तीन पारसी भाई अनेक वर्षों तक चीन में रहे और वहां यह कला उन्होंने सीखी फिर सूरत में आकर यहां बुनाई का व्यवसाय आरंभ किया। स्थानीय लोग उन्हें तनचोई कहने लगे। तन यानी तीन और चोई यानी चीनी। उनका मूलनाम था जोशी।  उनकी ख्याती देशभर में फैली हुई थी। जब यह प्रसिद्धि गांधीजी के कानों पर गई तो वे पैदल ही उनसे मिलने पहुंचे। वहां जोशी के कार्य को देख वे बहुत प्रसन्न हुए और उन्होंने कहा कि 'जब भारत स्वतंत्र होगा तब भारत सरकार 'तनचोई कसीदा केंद्र" देशभर में शुरु करने की जिम्मेदारी आप पर सौंपेगी।" गांधीजी ने अपने वचन का पालन किया।    
भारत के अर्वाचीन इतिहासकाल में पारसियों ने भारत के निर्माण में बहुत सक्रिय भाग लिया है। इस देश की स्वतंत्रता की लडाई में महर्षि दादाभाई नौरोजी (1825 से 1917) के नेतृत्व को भारतीय नेताओं ने माना था। इनके अलावा अन्य दो पारसी जिनका राष्ट्रीय आंदोलन से संबंध था वे थे सिर फिरोजशाह मेहता (1845 से 1915) और सर दिनशा वाच्छा (1844 से 1936)।  राष्ट्रीय आंदोलन में स्वयं का ऐसा खास स्थान निर्मित करनेवाली पहली पारसी महिला थी भिकाजी कामा। लाला हरदयाल, विनायक दामोदर सावरकर, आदि जैसे राष्ट्रवादीयों का उन्हें समर्थन प्राप्त था। 18 अगस्त 1907 को जर्मनों के सामने उनकी मातृभाषा में दिए भाषण में एक ध्वज फहराया था जिसमें थोडा फेरफार कर आज का राष्ट्रध्वज बना। उन्होंने देवनागरी लिपि का भी प्रसार किया। उनका प्रतिपादन था हिंदी ही भारत की सर्वमान्य भाषा रहेगी। 

भारत के औद्योगिक क्षेत्र का नेतृत्व जमशेदजी टाटा ने किया और उन्हीं के कदमों पर चलकर भारतीय उद्योगीयों ने भारत की कारखानेदारी को आज का यह विशाल रुप दिया है। रॉयल सोसायटी की फेलोशिप का सम्मान सबसे पहले एक पारसी अर्देसी कर्सेजटी वाडिया को मिला था। वे सबसे पहले मुंबई में गैस के दीए लाए थे। दिनशॉ पेरिट, कावसी जहांगीर, गोदरेज आदि अन्य प्रसिद्ध नाम हैं। बैंक क्षेत्र के प्रवर्तक भी पारसी ही थे। शापुरजी पालनजी मिस्त्री आधुनिक मुंबई के शिल्पकार हैं तो, एम. एन. दस्तुर की कंपनी अंतरराष्ट्रीय कन्सल्टिंग इंजीनिअर्स के रुप में काम करनेवाली पहली भारतीय कंपनी है। भारत की पहली वास्तुशास्त्रज्ञ एक पारसी महिला है पेरीन जे. मिस्त्री। इतिहास बतलाता है कि टाटा ने हमेशा से ही स्त्रियों को प्रोत्साहन दिया।

पारसियों ने जिस प्रकार से भारत के व्यापार-उद्योग का विकास किया वैसे ही व्यवसाय के क्षेत्र में भी नाम कमाया। पारसियों ने दो प्रमुख शास्त्रज्ञ-वैज्ञानिक भी दिए अणु-ऊर्जा संशोधन के क्षेत्र में होमी जहांगीर भाभा और भूगर्भशास्त्र में दाराशॉ नोशेरवान वाडिया। चिकित्सा शास्त्र में भी पारसियों ने महत्वपूर्ण काम किया है और विज्ञान और चिकित्सा के क्षेत्र में पारसियों ने अंतरराष्ट्रीय ख्याती प्राप्त की। सर जमशेटजी जीजीभॉय ने 3 जनवरी 1843 को जे. जे. हॉस्पिटल की नींव डाली। उस समय मुंबई में सामान्य लोगों के लिए एक भी अस्पताल नहीं था। आंखों का पहला अस्पताल मुंबई भायखला में सर कावसजी जहांगीर ने खोला था। इन्होंने ही सूरत में पहला प्रसूतीगृह खोला था। लेडी साकरबाई ने 1874 में पहला पशु चिकित्सालय खोलने के साथ ही प्राणियों को क्रूरता से बचानेवाली संस्था द सोसायटी फॉर द प्रिव्हेन्शन ऑफ क्रुएल्टी टु द एनिमल्स स्थापित की थी।  

पारसियों के रीति-रिवाज हिंदुओं से मिलते-जुलते हैं - कमर में ऊन के पट्टे की कश्ती (जनेऊ) बांधते हैं। पंच महाभूतों की पूजा करते हैं। सूर्य की उपासना करते हैं। विवाहादि मुहूर्त के समय मंगलाष्टक का उच्चारण करते हैं उस समय वधू को चंदन का उबटन लगाते हैं। गोमूत्र, गोमय को पवित्र मानते हैं और प्रायश्चित के समय उनको उपयोग में लाते हैं। नवजोत (उपनयन संस्कार) (प्रत्येक पारसी के जीवन की सबसे महत्वपूर्ण घटना) संस्कार करते समय दरवाजे के बाहर रंगोली निकालते हैं। स्त्री-पुरुष के  कपाल पर कुंकुम तिलक लगाते हैं। विवाह के समय वर-वधू आमने-सामने बैठते हैं और पुरोहित उनके बीच अंतःपाट पकडकर रखते हैं। पुरोहित अग्नि को चंदन और धूप की आहुती देते हैं। अवेस्ता के कुछ सुंदर उपदेश और आशीर्वाद का प्रारंभ होता है। सारी विधि में संस्कृत कही जाती है। विवाह में अक्षताओं का प्रयोग करते हैं। केले के पत्ते पर भोजन करते हैं।
अपने धर्म के आचरण की स्वतंत्रता और खुशहाली मिले इस हेतु पारसी भारत में आए। जो उन्हें मिली भी इसीलिए उनके पैगंबर जरतुष्ट्र (जरतुष्ट्र एक खिताब है- इसका अर्थ सुवर्ण प्रकाश) की सीख हम जाने यह आवश्यक लगता है। लेकिन विस्तारभयावश वह दे नहीं रहा हूं फिर भी अत्यंत संक्षिप्त सार यह है- संसार में एक ही ईश्वर है और वह है आहुरमाजदा। (मानवी इतिहास में ऐसा कहनेवाला बहुधा वह पहला ही पैगंबर होना चाहिए) आहुरमाजदा को वह जीवन और ज्ञान, तेज और सत्य, सद्‌गुण और न्याय, प्रेम और दया का देवता मानता है। उसकी सीख का मूलभूत तत्त्व है - रुचि-अरुचि की स्वतंत्रता। सुख और दुख मानव के अच्छे या बुरे कृत्यों के फल हैं। ईशभीरुओं को शुभ फल मिलता है तो, दुष्टों को दीर्घकाल पीडा होती है। जरतुष्ट्र की सीख का सार है अपने साथ के लोगों के साथ अच्छा व्यवहार करो। उसका ध्येय वाक्य है - अच्छे विचार, उत्तम शब्द और सत्कृत्य।  

Monday, 17 August 2015

18 अगस्त बाजीराव पेशवा (प्रथम) जयंति

18 अगस्त बाजीराव पेशवा (प्रथम) जयंति
विराट व्यक्तित्व का स्वामी - बाजीराव पेशवा प्रथम

पेशवा बाजीराव के नाम से सुविख्यात व्यक्ति का बरही के दिन रखा गया जन्म नक्षत्र से पडनेवाला नाम 'विश्वनाथ" (विसाजी) था, यह नाम इनके दादा का भी था। इन्हें 'विश्वासराव" भी कहा जाता रहा। बताया जाता है कि जिस समय बालाजी विश्वनाथ उनके द्वारा पूर्व में लिखी गई वह बखर (मराठी में लिखा गद्यमय इतिहास) पढ़ रहे थे, जिसमें 'बाजी" नाम के वीर पुरुषों की पूरी सूची ही थी, तो संयोग मात्र से उसी समय पर उन्हें जब पुत्र प्राप्ति का सुसमाचार मिला तो सहसा उन्होंने उसका नामकरण 'बाजीराव" कर दिया। वैसे 'बाजी" शब्द फारसी भाषा का है। इतिहास को अज्ञात किसी प्रसंग या प्रकरण से मराठी में 'बाजीराव" यह सम्मानजनक नामकरण बडे संपन्न, अकडैल, ठाट-बाट से रहनेवाले किसी व्यक्ति के लिए प्रयुक्त हुआ और फिर आगे यह इसी अर्थ में सगर्व प्रयोग में लाया जाने लगा। माता राधाबाई लाड-प्यार से अपने पुत्र बाजीराव को 'राऊ" (राव अर्थात्‌ बाजीराव नाम का संक्षिप्तिकरण)  नाम से पुकारती तो स्वयं बाजीराव की संतान और कनिष्ठ पीढ़ी के लोग उन्हें सम्मानजनक 'बाबासाहेब" नाम से संबोधित करते थे।

बाजीराव जन्मतः ही एक वर्धिष्णु प्रशासक के पुत्र रहे। जन्मना वे ब्राह्मण थे तथापि मूलरुप से वे क्षात्र-प्रवृत्ति रहे हों, अतः एक संपन्न प्रशासक के घर में प्राप्त शिक्षा-दीक्षा से उनके क्षात्र-भाव में विलक्षण निखार आया। पेशवा बाजीराव की अपने सनातन हिंदू-धर्म में नितांत श्रद्धा थी। परंतु, धर्म के प्रति वे सश्रद्ध थे, अंधश्रद्ध नहीं। उन्हें अपने ब्राह्मण होने में किसी संकोच के होने का कोई प्रश्न ही नहीं था। परंतु, उन्होंने अपनी इच्छा से क्षात्रकर्म का वरण किया था। अतः वे इसे ही अपना धर्म मानते थे। वे सतत्‌ राजनय एवं युद्धकर्म में व्यस्त रहते, इतने कि अपने पारिवारिक शुभ कर्मों-विवाह-यज्ञोपवीतादि में भी उपस्थित रह नहीं पाते। यहां तक कि शोक एवं सूतकादि के पालन का धार्मिक दायित्व उन्होंने अपने काका के परिवार राजमाचीकर-भट को सौंप रखा था।

बाजीराव के मन में अपनी माता के प्रति नितांत श्रद्धाभाव था। परिवार तथा संबंधियों पर उनकी एक आदरयुक्त धाक सी थी। इसीलिए सन्‌ 1729 तक तो सब सुखपूर्वक चलता रहा। परंतु, जब पेशवा बाजीराव बुंदेलखंड में अपना रणकौशल दिखाकर वापस लौटे तो साथ में महाराज छत्रसाल की पुत्री मस्तानी से विवाहबद्ध हो उसे द्वितीय पत्नी के रुप में अपने साथ ले आए थे। वैसे उस काल में, एक पत्नीव्रत के लिए भगवान श्रीराम की प्रशंसा तो होती ही थी, परंतु आचरण का आदर्श माना नहीं जाता था। संपन्न,  विद्वान, वीर और सामान्यतः सभी प्रकार के लोगों में एक से अधिक स्त्री को अपने घर-परिवार में विवाहित पत्नी, उपपत्नी या अविवाहित रुप में रखने का मानो रिवाज था। माता राधाबाई की कोई विवाहित सौत नहीं थी पर अविवाहित अवश्य थी। बाजीराव की पत्नी काशीबाई की सगी मॉं के साथ एक सौतेली मॉं भी थी। इस प्रकार पेशवा बाजीराव की दो पत्नियां होने की कोई समस्या किसी को नहीं थी। 

समस्या यदि थी तो दूसरी पत्नी मस्तानी के पिता महाराज छत्रसाल तो हिंदू थे, परंतु उनकी मॉं यावनी यानी मुसलमान थी। ऐसे में मजहबे इस्लाम के अनुसार उसकी मॉं इस्लामधर्मी मानी ही नहीं जा सकती थी। परंतु, हिंदू समाज की प्रचलित मान्यता के अनुसार वह इस्लामधर्मी थी और उसके गर्भ में पली पुत्री मस्तानी भी मुस्लिम हुई, जबकि उसके पिता महाराजा छत्रसाल हिंदू थे। स्पष्ट है कि सामाजिक मान्यता का कोई व्यवस्थित निश्चित आधार नहीं होता।

पेशवा की माताजी राधाबाई की दृष्टि में मस्तानी का यावनी यानी मुस्लिम होना ही आपत्ति का एकमेव और प्रबल कारण था। पुणे के सनातनी पंडित-पुरोहित ही नहीं तो तमाम उच्चवर्णीय भी इसी कारण से पेशवा बाजीराव के संदर्भ में सतत्‌ विवाद की स्थिति उत्पन्न करते रहे। निश्चय ही आश्चर्य कहना होगा कि बाजीराव की पत्नी काशीबाई इस विषय में अत्यंत उदारमना थी और मस्तानी को वह अपनी छोटी बहन मानती थी। परंतु उसके अतिरिक्त पेशवा परिवार एकजुट हो मस्तानी के विरुद्ध था। मॉं राधाबाई, अनुज चिमाजी अप्पा, पुत्र नाना मस्तानी को समस्या मान येनकेन प्रकारेण उससे मुक्ति के विचार और आचार में संलग्न रहते। दूसरी ओर पेशवा बाजीराव पूर्ण प्रामाणिकता एवं प्रेमभाव से मस्तानी को अपनी अर्धांगिनी मानते थे और बिछुडाव की कल्पना तक उनके लिए असहनीय थी। इस एक मुद्दे के कारण पेशवा का परिवार मानो कलह की आग में धधक रहा था। अन्य किसी भी कारण से विचलित नहीं होनेवाले पेशवा बाजीराव मस्तानी के साथ हो रहे अन्याय, उसका हो रहा अपमान, उसे बाजीराव के जीवन से हटाने के लिए रचे जा रहे षड्‌यंत्र, यहां तक कि अंतिम उपाय के स्वरुप ही क्यों ना हो मस्तानी के जीवन को ही संकट में डालने की चालों की भनक से बाजीराव विचलित होने लगे थे और शनैः-शनै उनकी मानस की विचलित अवस्था बढ़ती ही चली जा रही थी।

सामाजिक मान्यताओं का यह कितना विरोधाभास है कि एक ओर जोधाबाई और अन्य अनेक राजपूत राजकुल की हिंदू कन्याएं इस्लामी मुगल बादशाह अकबर के हरम में पत्नियां बनकर रहती हैं और मुगलशाही खानदान को बढ़ाती हैं। दूसरी ओर एक मस्तानी को ब्याह कर लाने से पुणे के सनातनी समाज में मानो भूचाल आ जाता है और पेशवा परिवार में कलह मच जाती है। ऐसी विपरीत सामाजिक मान्यताओं से उत्पन्न होनेवाली भयंकर स्थितियों को काल की महिमा के अतिरिक्त क्या कहा जा सकता है। भावना के आवेग में आज हम मॉं राधाबाई, अनुज चिमाजी अप्पा, पुत्र नाना को दोषी बता सकते हैं पर, जब हम तत्कालीन समाज में उन्हें खडा करें तो वे ठीक उस समाज जैसे प्रतीत होते हैं। अपवाद थे तो पेशवा बाजीराव और उनकी पत्नी काशीबाई जिनका आचरण व्यवहार तत्कालीन समाज के अनुसार नहीं तो उससे सैंकडों वर्ष आगे का था। एक ओर उनकी यह विलक्षण असाधारणता थी तो दूसरी ओर दकियानूसी परंपरावाला समाज। ऐसे में विवाद, कलह नहीं तो और क्या होता! इसी को विद्वत भाषा में 'माया" कहा जाता है! पेशवा बाजीराव के जीवन के संदर्भ में इस माया के प्रभाव को स्वीकारते हुए भी एक विलक्षण, अद्‌भुत तथ्य को अस्वीकार किया ही नहीं जा सकता कि इस गृहकलह रुपी अग्नि की आँच किसी भी सदस्य के माध्यम से उनके राजनैतिक दायित्व को नहीं लग पाई और वह सर्वथा अबाधित रहा। मॉं राधाबाई जैसी अनुभवी एवं निश्चयी महिला से राजकाज में हस्तक्षेप नहीं किया, नवयुवक पुत्र नाना ने भी कोई दुःसाहस नहीं किया। 

Sunday, 16 August 2015

सावन विशेष

सावन विशेष
शिव महिमा एवं वृहत्तर भारत की एकता के प्रतीक हैं द्वादश ज्योतिर्लिंग
पूरे विश्व में लिंग पूजा अत्यंत प्राचीन है। इस संबंध में वैदिक साहित्य में अनेकों प्रमाण मिलते हैं। चीन और जापान में भी लिंग पूजन के साक्ष्य मिलते हैं। अजरबैजान में भी एक पुराना शिव मंदिर है। इस मंदिर का निर्माण कब हुआ यह ठीक ठाक ढ़ंग से कहना संभव नहीं है। इजिप्त, यूनान, रोम आदि देशों में भी शिवलिंग पूजन होता रहा है। पश्चिम के कई देशों की कई जातियों में किसी ना किसी रुप में लिंग पूजा होती रही है। अमेरिका के प्राचीन निवासी भी लिंग पूजा किया करते थे। कंबोडिया और थाईलैंड की सीमा पर एक शिव मंदिर स्थित है। 

वृहत्तर भारत में द्वादश ज्योतिर्लिंग का अपना एक विशेष स्थान है। द्वादश ज्योतिर्लिंग का विवरण शिव पुराण में दिया हुआ है। इस विवरण के अनुसार द्वादश ज्योतिर्लिंग इस प्रकार हैं - सौराष्ट्र गुजरात में सोमनाथ, श्रीशैल पर्वत (आंध्रप्रदेश) पर मल्लिकार्जुन, उज्जैन (म.प्र.) महाकाल, नर्मदा के तट पर ओंकारेश्वर, हिमालय पर्वत पर केदारेश्वर, सह्याद्रि पर्वत पर डाकिनी नामक स्थान पर भीमशंकर, वाराणसी (उ.प्र.) में विश्वनाथ, गोदावरी (महाराष्ट्र) के तट पर त्र्यम्बकेश्वर, बिहार में वैद्यनाथ, दारुक वन (आंध्रप्रदेश) में नागेश्वर, सेतुबंध पर रामेश्वर, शिवायल में घुमेश्वर। भारत में पूर्व से पश्चिम, उत्तर से दक्षिण में ये द्वादश ज्योतिर्लिंग अपना विशिष्ट इतिहास संजोए हुए हैं। 

सोमनाथ - शिव का पहला अवतार सोमनाथ के रुप में हुआ। इस मंदिर और ज्योतिर्लिंग की महत्ता पौराणिक एवं ऐतिहासिक दोनो ही है। चंद्रमा ने इसकी स्थापना की थी। महमूद गजनवी ने पहली बार इस मंदिर को लूटा। इस मंदिर को अनेक बार लूटा गया और यह अनेक बार फिर से स्थापित हुआ। सन्‌ 1413 में अंतिम बार मुस्लिम शासक सुलतान अहमद शाह ने इसे तोडा था। अंततोगत्वा सरदार पटेल के सत्प्रयास से इस मंदिर की पुनर्निमिति हुई।

मल्लिकार्जुन-मल्लिका अर्थ पार्वती है और अर्जुन शिव का वाचक है इस प्रकार से यहां शिव-पार्वती दोनो स्थापित हैं। पुत्र प्राप्ति के लिए इस लिंगपूजन को विशेष मान्यता है। पुराणों के कथनानुसार शैल पर्वत के दर्शन मात्र से मानव पुनर्जन्म से मुक्त हो जाता है।

महाकालेश्वर - इस ज्योतिर्लिंग के संबंध में अनेक कथाएं हैं। महाकालेश्वर सज्जनों का आश्रयदाता एवं दुष्टों का विनाशक है। महाकाल की गरिमा बढ़ाने में क्षिप्रा नदी सहायक है। हर 12वें वर्ष यहां सिंहस्थ का आयोजन होता है।

ओंकारेश्वर - प्राकृतिक एवं भव्य दृश्यों के मध्य मांधाता पर्वत पर ओंकारेश्वर ज्योतिर्लिंग का भव्य मंदिर है। यह शिला रुप में  है। राजा मांधाता के नाम पर ही यह पर्वत प्रसिद्ध हुआ। पौराणिक कथा के अनुसार विंध्य पर्वत ने मानव रुप धारण कर शिवलिंगार्चन किया। उसी शिवलिंग के दो भाग हो गए एक को, ओंकारेश्वर तो दूसरे को ममलेश्वर (इच्छा पूर्ण करनेवाला ईश्वर कहा गया) 

केदारनाथ - केदारेश्वर ज्योतिर्लिंग की स्थापना नर नारायण नामक देवों ने की। ऐसे तो नर नारायण अर्जुन और श्रीकृष्ण ही माने जाते हैं। इस मंदिर के निर्माण में भी छैनी हथौडी का प्रयोग नहीं हुआ है। यह केदार शिखर पर मंदाकिनी के तट पर स्थित है।

भीमशंकर - इस ज्योतिर्लिंग के संबंध में विद्वानों में कुछ मतभेद हैं। सामान्यतः तो यही माना जाता है कि मुंबई से पूर्व और पुणे के उत्तर में भीमा नदी के उद्‌गम स्थान सह्याद्रि पर्वत के डाकिनी नामक स्थान पर यह स्थित है। एक अन्य कथा के अनुसार यह असम के कामरुप जिले के ब्रह्मपुत्र पहाडी पर स्थित शिवलिंग है।

विश्वेश्वर - शिव का सांतवा ज्योतिर्लिंग काशी विश्वेश्वर या विश्वनाथ है। पौराणिंक मान्यता के अनुसार यहां शिव सदा विद्यमान रहते हैं। इस ज्योतिर्लिंग की स्थापना-संस्थापक आदि का इतिहास नहीं मिलता। हां, आद्यशंकराचार्य ने इस विश्वेश्वर लिंग की स्थापना की थी। चीनी यात्री ह्वेनसांग ने 100 फुट ऊंची मानवाकार विश्ववेश्वर की मूर्ती का उल्लेख किया है। सबसे पहले कुतुबुद्दीन ऐबक ने इसे तोडा था। उसीने सारनाथ के चक्र को भी तोडा था। 1494 में सिकंदर लोधी ने इसे तोडा। 1669 में औरंगजेब ने तोडा और इसे विश्वनाथ मस्जिद का रुप दे दिया। 1790 में देवी अहिल्या ने इसी मस्जिद के पास नया विश्वनाथ मंदिर बनवाया।

त्र्यम्बकेश्वर - कहा जाता है कि गौतम ऋषि और दक्षिण की गंगा गोदावरी की प्रार्थना पर शिवजी यहां ज्योतिर्लिंग के रुप में प्रकट हुए थे। मंदिर के भीतर तीन शिवलिंग हैं वे क्रमशः ब्रह्मा, विष्णु और शिव के प्रतीक हैं। इसी कारण त्र्यम्बकेश्वर नाम पडा।

वैद्यनाथेश्वर - शिवभक्त राक्षस राज रावण ने कैलाश पर्वत पर घोर तपस्या की और अपने ही हाथों से अपना सिर काटकर चढ़ाने लगा, नवां सिर चढ़ाने के पश्चात जब वह दसवां सिर चढ़ाने को उद्यत हुआ तो भगवान शंकर प्रकट हो गए। शिवशंकर को प्रसन्न जान रावण ने कैलाश पर स्थापित शिवलिंग को लंका में स्थापित करने का विचार किया। शिवजी ने कहा तुम इसे बीच में कहीं ना रखना। भगवान शंकर की आज्ञा ले रावण चल पडा परंतु, मार्ग में लघुशंका के लिए रुकने के कारण यह ज्योतिर्लिंग इसी स्थान पर स्थापित हो गया और वैद्यनाथ के नाम से प्रसिद्ध हुआ। 

नागेश्वर - सुप्रिय नामक एक वैश्य शिवजी का अनन्य भक्त था। उस भक्त को दारुक नामके एक राक्षस ने पकड लिया और कारागार में बंद कर दिया। सुप्रिय कारागार में भी शिवभक्ति कर रहा है यह अवगत होेने पर राक्षस उसकी हत्या करने पहुंचा। शिवजी  अपने भक्त की रक्षा के लिए कारागार में प्रकट हुए और वहीं उस दारुक दैत्य को मार डाला। नागेश्वर ज्योतिर्लिंग सभी कामनाओं को पूर्ण करनेवाला माना जाता है। यह ज्योतिर्लिंग पूर्णा-हिंगोली लाइन पर चौडी स्टेशन से 12 मील दूर औढ़ा नामक गांव में है। 

सेतुबंध रामेश्वरम्‌ - तमिलनाडु के रामनाथम या रामनद जिले में स्थित है। रामचरित मानस के आधार पर समुद्र पर पुल बांधने  के पूर्व ही रामेश्वरम्‌ की स्थापना श्रीरामचंद्रजी ने की थी। रामकथा के अनुसार श्रीराम ने शिवजी से सदैव वहां रहने का आग्रह किया था तद्‌नुसार शिवजी वहां रामेश्वर ज्योतिर्लिंग के रुप में स्थापित हुए। दाक्षिणात्य कथा के अनुसार लंका पर विजय प्राप्त करने के पश्चात अयोध्या वापसी के समय रामेश्वर शिवलिंग की स्थापना की। इस ज्योतिर्लिंग को गंगा स्नान करवाना विशेष पुण्य का माना जाता है। रामेश्वरम शिवलिंग के बगल में ही हनुमदीश्वर शिवलिंग स्थापित है। हनुमानजी द्वारा कैलाश पर्वत से शिवलिंग लाने में देर हो जाने के कारण दूसरे मुहुर्त पर इस लिंग की स्थापना की गई थी।

घूमेश्वर - शिव पुराण की कथा के अनुसार प्राचीन युग में देवगिरी नामक पर्वत के निकट सुधर्मा नाम का एक ब्राह्मण रहता था। उसकी पत्नी घुश्मा अत्यंत शिवभक्त थी। वह नित्य एक सौ एक पार्थिव शिवलिंगों की पूजा करती और उन्हें निकट के सरोवर में विसर्जित कर देती। एक दिन शिवजी ने प्रसन्न होकर उसे दर्शन दिए और घुश्मा के आग्रह पर जनहितार्थ वहीं ज्योतिर्लिंग के रुप में  रहे। इस शिवलिंग को घुसणेश्वर या घृष्णेश्वर शिवलिंग भी कहा जाता है। यह ज्योतिर्लिंग दक्षिण के हैदराबाद के अंतर्गत दौलताबाद स्टेशन से बारह कि.मी. दूर स्थित है।

Friday, 31 July 2015

राजनीति में वंशवाद

राजनीति में वंशवाद

आज राजनैतिक क्षेत्र में चारों ओर वंशवाद का ही बोलबाला नजर आता है। पहले तो वंशवाद केवल कांग्रेस की ही बपौति था और नेहरु गांधी परिवार तक ही सीमित था। परंतु, वर्तमान में कमोबेश सभी राजनैतिक दल एवं लगभग सभी बडे राजनेता इस वंशवाद के पोषक नजर आ रहे हैं। इस वंशवाद की शुरुआत पंडित मोतीलाल नेहरु से ़शुरु हुई जो कांग्रेस के एक सुप्रतिष्ठित एवं सुस्थापित बडे नेता थे। जिन्होंने अपनी दूरदृष्टी से यह भांप लिया था कि लोकमान्य तिलक की मृत्यु के बाद कांग्रेस नेतृत्व में एक रिक्ती आ गई है उस रिक्ती को गांधीजी ही भर सकेंगे और वे ही उगते सूरज हैं जिनके पीछे भारत की जनता चलेगी और वे ही भविष्य के नेता होंगे। और उन्होंने अपने बेटे जवाहर (पंडित नेहरु) को गांधीजी से निकटस्थता बढ़ाने की सलाह दी जिससे की वे गांधीजी का आशीर्वाद प्राप्त कर राजनैतिक बुलंदियों को हासिल कर सकें। पंडित जवाहरलाल नेहरु ने अपने पिता की सलाह को माना और अंततः गांधीजी के प्रिय पात्र बन प्रधानमंत्री के पद तक पहुंचने में सफल भी रहे। हां यह ठीक है कि सरदार वल्लभभाई पटेल भी गांधीजी के निकटस्थों में से एक थे परंतु भाग्य ने नेहरुजी का साथ दिया। वैसे किसी भी प्रसिद्ध एवं बडे व्यक्ति के पास कई योग्य, अनुभवी, सक्षम नेतृत्व दे सकने की काबिलीयत रखने वाले विश्वासपात्र लोग होते ही हैं। परंतु, सर्वोच्च पद पर तो किसी एक व्यक्ति को ही बैठाया जा सकता है ना। जैसेकि बालासाहेब ठाकरे से जब एक बार पूछा गया था कि आपने श्री मनोहरराव जोशी को ही महाराष्ट्र का मुख्यमंत्री क्यों बनाया? तो उन्होंने यही जवाब दिया था कि मेरे पास कई योग्य व्यक्ति हैं परंतु मुझे उन सबमें श्री मनोहरराव जोशी ही सबसे योग्य लगे और इसीलिए मैंने उन्हें मुख्यमंत्री के पद पर आसीन कराया। बस इसी तरह से शायद गांधीजी को भी ऐसा ही कुछ लगा होगा और उन्होंने अपना आशीर्वाद पंडित नेहरु को दे दिया। 

वैसे ही समकालीन जिन्ना से नेहरु की प्रतिद्वदिंता थी और दोनो ही बेरिस्टर और तुल्यबल भी थे,साथ ही दोनो आधुनिक विचारों वाले होने के अलावा अलग-अलग पार्टियों मुस्लिम लीग और कांग्रेस में थे। जो भी हो शायद इसका भी लाभ नेहरुजी को मिला हो। हां इस बात से इंकार नहीं किया जा सकता कि पंडित जवाहरलाल नेहरु भारत की जनता के बीच एक अत्यंत लोकप्रिय व प्रभावशाली नेता थे और वे कितना प्रभावी थे यह तो हमें इसी बात से पता चलता है कि उनके प्रभाव से भारत के अंतिम गवर्नर जनरल लार्ड माउंटबैंटन की पत्नी लेडी एडविना भी न बच सकी थी। और अपनी लोकप्रियता व प्रभाव के कारण ही वे सबसे लम्बे समय तक भारत के प्रधानमंत्री रहे और अपनी राजभोग प्रिय प्रवृति के कारण अपनी बेटी इंदिरा को राजनीति में ले आए। हां यह भी सही है कि इंदिराजी नेहरुजी की मृत्यु के तत्काल बाद प्रधानमंत्री के पद पर उस तरह से आसीन नहीं हुई जिस तरह से की उनकी मृत्यु के तत्काल बाद राजीव गांधी हो गए थे। नेहरुजी की मृत्यु के बाद पहले लालबहादुर शास्त्री प्रधानमंत्री बने। परंतु, ज्यादा समय तक जीवित न रह सके और अल्प कार्यकाल के बाद ताशकंद में उनका संदिग्ध परिस्थितियों मे स्वर्गवास हो गया। 

उस जमाने में स्वतंत्रता संग्राम में नेहरुजी के साथ कार्य करने वाले कई वरिष्ठ कांग्रेसी उदा. कामराज, मोरारजी देसाई जैसे लोग जीवित थे। उन्होंने एक सिंडीकेट बनाकर श्रीमति इंदिरा गांधी को प्रधानमंत्री के पद पर यह सोचकर बैठाया कि उन्हें कठपुतली बनाकर वे राज करेंगे। परंतु, इंदिराजी उनसे बढ़कर कूटनीतिज्ञ एवं राजनीतिज्ञ निकली और उन्होने कांग्रेस दो फाडकर सिंडीकेट के राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार नीलम संजीव रेड्डी को हराकर अपनी इंडीकेट कांग्रेस के माध्यम से श्री वी.वी.गिरी को राष्ट्रपति बनाने में सफलता पाई और उसके बाद प्रीविपर्स समाप्ति, बैंकों का राष्ट्रीयकरण जैसे बडे क्रांतिकारी कदम उठाकर और 1971 में पाकिस्तान को बुरी तरह से हराकर, उसके लगभग एक लाख सैनिकों से हथियार रखवाकर एवं पाकिस्तान के दो टुकडे कर बांग्लादेश बनाने में सफलता प्राप्त कर लोकप्रियता की नई ऊंचाइयों को छुआ। उनकी बांग्लादेश पर प्राप्त की गई अभूतपूर्व विजय के कारण विपक्षी तत्कालीन जनसंघ के नेता श्री अटलबिहारी बाजपेयी ने तो उन्हें देवी दुर्गा का अवतार कहकर सम्मानित किया। अपनी कूटनीति और राजनीति के बल पर ही उन्होंने सिक्कीम को भारत में विलय कर वृहत्तर भारत, अखंड भारत की दिशा में एक कदम बढ़ाने में भी सफलता पाई। परंतु सन 1975 में उच्च न्यायालय द्वारा उनके चुनाव को अवैध घोषित करने पर उच्च न्यायालय के आदेश का सम्मान कर त्याग-पत्र देने की बजाए उन्होंने आपातकाल का सहारा लिया और उनके पतन की शुरुआत हो गई। उसीमें पुत्र मोह से ग्रस्त होकर अपने बेलगाम तानाशाही प्रवृति वाले पुत्र संजय गांधी के अलोकतांत्रिक आचरण एवं व्यवहार को रोक न सकने के कारण वे अलोकप्रिय हो गई एवं आपातकाल को हटाने के बाद हुए 1977 के चुनाव में स्वयं तो हारी ही पूरी कांग्रेस भी हार गई और कांग्रेस फिर से विभाजित हो गई  और जनता पार्टी के नाम से बेमेल पार्टियों के विलय से बनी पार्टी शासन में आ गई। लेकिन आपसी मनमुटाव और सिरफुटोव्वल के कारण अपना कार्यकाल पूरा न कर सकी। और इसी का लाभ उठाकर व बिहार में घटित हुए बेलछी कांड का व जनता पार्टी शासन द्वारा उठाए गए सतत इंदिरा विरोधी कदमों से अकेली पडी हुई एक महिला के प्रति उपजी सहानुभूति के कारण वे फिर से सत्तासीन हो गई।

परंतु दुर्भाग्यवश एक विमान दुर्घटना में उनके पुत्र संजय गांधी नहीं रहे, अटलजी के शब्दों में कहें तो 'मध्यांह में सूर्यास्त हो गया" यह उद्‌गार अटलजी ने संजय गांधी को उनके द्वारा दी गई श्रद्धांजलि के समय निकाले गए थे, तो इंदिराजी के वंशवाद ने फिर से जोर पकडा और वे अपने बडे बेटे राजीव गांधी जो एक व्यवसायिक विमान चालक थे और जिनकी रुचि राजनीति में कतई न थी उनको राजनीति में ले आई, जो आगे जाकर प्रधानमंत्री जरुर बने पर राजनीति के दांव-पेंचों से अनभिज्ञ होने के कारण असफल ही सिद्ध हुए। 1984 में अपनी ही गलतियों के कारण श्रीमति इंदिरा गांधी को शहीद होना पडा और सहानुभूति की लहर पर आरुढ़ हो स्व. राजीव गांधी ने वह बहुमत हासिल कर दिखाया जो उनके नाना पंडित जवाहरलाल नेहरु को भी प्राप्त न हुआ था। परंतु राजनीति पर पकड न होने और अनुभवहीनता के चलते कभी हिंदू कार्ड तो कभी मुस्लिम कार्ड खेलने के चक्कर में सत्ता खो बैठे और अपने कार्यकाल की अपरिपक्वतावश की हुई गलतियों के कारण आतंकवाद का शिकार हो गए। और कुछ समय बाद इस वंशवाद के प्रभाव से उपजी अभिलाषा के कारण जो सोनिया गांधी राजनीति में पहले तो आने से इंकार करती थी वही सोनिया गांधी राजनीति में सक्रिय हो गई और धीरे से कांग्रेस की बागडोर सम्हाल ली और राजग को पराजित कर संप्रग के माध्यम से सत्ता की पायदान तक जा पहुंची। परंतु अपने विदेशी मूल के होने के कारण संभावित खतरों को भांप सत्ता सिंहासन पर भले ही आरुढ़ नहीं हुई परंतु अपने वंशवादी गुलाम मानसिकता के कांग्रेसियों के महान त्याग और बलिदान वाले नारों के बलबूते यह आभास निर्माण करने में  जरुर सफल रही की उन्होंने आई हुई सत्ता को ठुकराया है। और वंशवादी गुलाम मानसिकता के कांग्रेसियों ने तो उनके इस (मजबूरीवश किए गए) 'महान त्याग" को गांधीजी के त्याग से भी बढ़कर बतलाना शुरु कर दिया। भले ही वे प्रधानमंत्री के पद पर आसीन नहीं हुई परंतु आज जो उनकी सर्वोच्च की स्थिति कांग्रेस में है और सरकार में रही है वह किसी से भी छुपी नहीं है। और इसी का लाभ उठाकर उन्होंने अपने बेटे राहुल गांधी को राजनीति के क्षेत्र में सर्वोच्च पद की ओर अग्रसर करना शुरु कर दिया था और बेटा कहीं कम न पड जाए इसलिए अपने ही वंशवादी चाटुकारितावालों की ही नई पीढ़ी के कुछ युवा सांसदों को भी तैयार करना शुरु कर दिया जो भविष्य में जब कभी राहुल सत्तासीन हुए तो उनके काम आएंगे।

इस वंशवाद की आलोचना, विरोध करने वाले भी इस वंशवाद की परंपरा के प्रभाव से बच न सके और जो भाजपा जनसंघ के जमाने से इस नेहरु गांधी परिवार के वंशवाद का मुखर विरोध और आलोचना बडे जोर-शोर से करती थी वह भी समय के साथ इस विरोध को भूलकर इसी वंशवाद की रौं में बह गई और इस वंशवाद की परंपरा में नए आयाम जोडते हुए कांग्रेस से कई गुना आगे बढ़ गई। और जहां कांग्रेस में नेहरु-गांधी परिवार का वंशवाद ही शीर्ष पर था बाकी नेता तो वंशवाद के छोटे-मोटे टापू के रुप में ही दृष्टिगोचर होते थे वहीं भाजपा ने तो जो रणनीति अपनाई थी कि 'कांग्रेस को कांग्रेस के ही अखाडे में कांग्रेस के ही दांव से पटकनी देना" में पटकनी देने में तो वह निश्चय ही सफल रही। परंतु, उसका परिणाम यह हुआ कि खुद ही कांग्रेस के रंग में इतने गहरे रंग  में रंग गई कि अपनी मूल पहचान, अपना मूल उद्देश्य, अपना अलगत्व ही खो बैठी और 'पार्टी विथ डिफरंस" का नारा जरुर बुलंद करती रही परंतु वह नारा हास्यास्पद रुप ले हास्य का पर्याय सा ही बन गया। और अब वंशवाद इतना सर चढ़कर बोल रहा है कि भाजपा के हर छोटे-बडे नेता का कोई ना कोई रिश्तेदार राजनीति में सक्रिय नजर आ रहा है। फिर भले ही इस वंशवाद को आगे बढ़ाने में पार्टी की किरकिरी भी क्यों ना हो जाए। 

केवल भाजपा ही नहीं तो भाजपा के साथ जो अन्य विरोधी दल थे जो कांग्रेस के वंशवाद की आलोचना में भाजपा से उन्नीसे नहीं तो बीसे ही बैठते होंगे उन्होने भी इसी वंशवाद को अपना लिया। उदा. इधर उत्तरप्रदेश में मुलायमसिंग के भाई और पुत्र दोनो ही राजनीति में सक्रिय हैं तो उधर बिहार में लालू यादव अपनी पत्नी और पत्नी के भाई तो, तमिलनाडु में करुणानिधि अपने पूरे कुनबे के साथ राजनीति में सक्रिय नजर आ रहे हैं। यह वंशवाद अब इतना बढ़ गया है कि महिला आरक्षण के इस दौर में यह नगर पालिका, निगमों में तो पार्षद पति, पार्षद भाई, पार्षद पिता के रुप में नजर आ रहा है। यदि यह महिला आरक्षण और वंशवाद का दौर यूं ही परवान चढ़ता रहा तो आज जहां केवल पार्षद पति आदि नजर आ रहे हैं वहीं कल को विधायक पति, सांसद पति, मंत्री पति आदि भी केंद्र से लेकर राज्य तक, राज्य के शहरों, गांवों में तक घूमते नजर आएंगे। अब तो इस वंशवाद ने हर क्षेत्र में प्रवेश कर लिया है। फिल्मों में भी पहले जहां केवल कपूर या चोपडा परिवार जैसे कुछ ही गिने-चुने परिवार वंशवाद का झंडा थामे हुए थे वहीं आज कई परिवार वंशवाद के पोषक नजर आ रहे हैं। और तो और इस वंशवाद ने धार्मिक क्षेत्र को भी अछूता नहीं रहने दिया है और शीघ्र ही वहां भी पिता के बाद पुत्र को लोग गद्दीनशीन होते देख सकेंगे। यह राजस शक्ति का प्रभाव है जो धार्मिक क्षेत्र में भी घुस आया है। लेकिन इस वंशवाद को दोष देना व्यर्थ है यह तो मानव की सहज राजभोग प्रवृत्ति है जो कमोबेश हर व्यक्ति में कम या ज्यादह मात्रा में मौजूद रहती ही है। लगभग हर व्यक्ति कम या अधिक मात्रा में चाहता है कि मैंने जो सत्ता भोग का आनंद लूटा है वही आगे भी जारी रहे और मेरे बाद मेरी पत्नी, पुत्र, पुत्री और अन्य रिश्तेदारों को भी पीढ़ी दर पीढ़ी आगे भी मिलता रहे और जीते जी तो क्या मरते वक्त तक वह इसी जुगाड में लगा रहता है और इसके लिए तमाम तरह के उचित, अनुचित  तरीके अपनाने से भी बाज नहीं आता। उदाहरणार्थ ः इस वंशवाद के समर्थक नेतागणों द्वारा  यह तर्क दिया गया  कि 'बढ़ई का बेटा बढ़ई बनता है" तो नेता का बेटा नेता क्यों नहीं बन सकता? या 'जब डॉक्टर का बेटा डॉक्टर बन सकता है, व्यवसायी का बेटा व्यवसायी कर सकता है तो ऐसे में राजनीति करनेवाले का बेटा राजनीति क्यों नहीं कर सकता?" लेकिन यह तर्क देनेवाले यह भूल जाते हैं कि यह सामंती तर्क है कि 'राजा का बेटा राजा बनेगा" भले ही वह योग्य हो या कि अयोग्य। प्रजातंत्र में तो नेता प्रजा यानी जनता द्वारा चुना जाता है और इस तरह के तर्कों के आधार पर अपने पुत्र को नेता के रुप में थोपना सरासर प्रजातंत्र का अपमान नहीं हुआ क्या? लेकिन यह सभी दलों में हो रहा है और यह प्रवृति प्राचीन -काल से ही चली आ रही है। परंतु यहां यह याद दिला देना उचित होगा कि इस प्रवृति के दो ही अपवाद आधुनिक काल में हैं और वे हैं महात्मा गांधी और वीर सावरकर जिन्होने इस प्रवृति को प्रश्रय कभी भी नहीं दिया।

Sunday, 28 June 2015

बेतहाशा बढ़ती छुट्टियों के कहर से निजात कब मिलेगी, कौन दिलाएगा?

बेतहाशा बढ़ती छुट्टियों के कहर से निजात कब मिलेगी, कौन दिलाएगा?
सरकारी कर्मचारियों का कार्यालय से गायब रहना और नित नए बहाने बनाते रहना यह प्रवृत्ति कोई आज की नहीं है। यह प्रवृत्ति कितने लंबे समय से है यह हमें सम्राट चंद्रगुप्त के गुरु चाणक्य, जो एक कुशल राजनीतिज्ञ, कूटनीतिज्ञ, आयुर्वेदाचार्य आदि तो थे ही साथ ही एक कुशल प्रशासक एवं समस्याओं का संतोषजनक हल निकालने में भी अत्यंत पारंगत थे के जमाने में भी मौजूद थी इसका पता हमें इस कथा से मिलता है जो आज भी प्रासंगिक है-

चाणक्य को निरीक्षण में यह नजर आया कि सरकारी कार्यालयों में कई बार कर्मचारियों की उपस्थिति बहुत बडे पैमाने पर कम रहती है। पूछताछ करने पर यह पता चला कि अनुपस्थित कर्मचारियों के घर में मॉं अथवा पिता का श्राद्ध है इसलिए वे नहीं आए हैं। अधिक जांच करने पर यह भी ध्यान में आया कि वर्ष में दो-तीन बार मॉं या पिता का श्राद्ध है कहकर कर्मचारी कार्यालय से गायब रहते हैं। चाणक्य के लिए यह कहना तो संभव था नहीं कि श्राद्ध ना करें। क्योंकि, धार्मिक भावना को ठेस पहुंचा नहीं सकते थे। इस पर चाणक्य ने यह मार्ग ढूंढ़ निकाला कि भाद्रपद महीने के अंतिम पंद्रह दिनों को पितृ-पक्ष का नाम देकर उन पंद्रह दिनों में सभी लोग अपने मृत संबंधियों के श्राद्ध करें।

कुछ परिवारों में यदि कोई अडचन हो या श्राद्धकर्म करने के लिए पंडित (ब्राह्मण) उपलब्ध न हो सके तो अंतिम अमावस्या वाले दिन करें और चाणक्य ने उस दिन का नामकरण सर्वपितृ अमावस्या किया। इस प्रकार से बिना किसी की धार्मिक भावना को ठेस पहुंचाए चाणक्य ने इस कामचोरी और कार्यालय से गायब रहने की प्रवृत्ति पर काबू पाया। परंतु, कर्मचारियों के गायब रहने की यह समस्या आज फिर सिर उठाए खडी है। परिस्थितियां यहां तक बेकाबू हो गई है कि कर्मचारी तो कर्मचारी अधिकारी तक गायब रहने लगे हैं और हमारे शासक-प्रशासक इस समस्या से पार पाने के स्थान पर अधिकाधिक छुट्टियां घोषित कर इस देशघातक प्रवृत्ति को क्षणिक लाभवश बढ़ावा ही दे रहे हैं और जनता हैरान-परेशान है एवं भारत दुनिया में सर्वाधिक छुट्टियोंवाला देश बनता चले जा रहा है। नया वर्ष आरंभ होने के समय समाचार पत्रों में यह समाचार बराबर स्थान पाता है कि नए वर्ष में कितनी छुट्टियां रहेंगी और कर्मचारी अपनी छुट्टियों का जोड-बाकी लगाने में भिड जाते हैं।

राजीव गांधी के प्रधानमंत्री बनने पर उन्होंने पांच दिन का सप्ताह घोषित कर सरकारी कर्मचारियों से यह अपेक्षा की कि वे तरोताजा होकर अधिक काम करेंगे परंतु कोई बदलाव नहीं आया न तो काम करने की गति बढ़ी ना ही जवाबदेही बढ़ी। छठे वेतन आयोग की सिफारिशों को लागू करने के बाद अधिकारियों-कर्मचारियों का वेतन बढ़ा इससे हजारों करोडों रुपयों का बोझ सरकार पर पडा। सरकारी नौकरियां और भी अधिक आकर्षक हो गई। इस वेतन बढ़ौत्री के साथ सिफारिशें समयबद्धता, अनुशासन, कार्यसंस्कृति बढ़ाने। कर्मचारियों की संख्या और खर्चों में कटौती, कागजी कार्यवाही में कमी लाने, जांच अल्पावधि में करने, कार्यकुशलता के आधार पर पदोन्नति, देर से आनेवाले कर्मचारियों पर निगरानी आदि की जाए, की भी थी। परंतु, कर्मचारियों को तो खुश कर दिया गया परंतु, बाकी सिफारिशें उपेक्षित ही रह गई। कार्य संस्कृति में कोई इजाफा नहीं हुआ।

हम अमेरिकीयों की नकल करने में कहीं पीछे नहीं रहना चाहते, नई आर्थिक नीतियों से भी अमेरिकी संस्कृति को ही बढ़ावा मिल रहा है। कई भारतीय तो अमेरिका जाने का, खुद को अमेरिकी कहलवाने का सपना रात-दिन देखते रहते हैं, पाले रहते हैं। परंतु, अमेरिका में छुट्टियां ही नहीं मिलती इस बारे में न तो हम बात करना चाहते हैं न ही उसी तर्ज पर अपनी छुट्टियां कम करवाना चाहते हैं। ऑस्ट्रेलिया जाने का सपना भी बहुत से लोग पाले रहते हैं। वहां जरुर छुट्टियां मिलती हैं परंतु, इतनी नही जितनी हमारे देश में। अमेरिकी तो छुट्टियों के लिए ही तरस जाते हैं। वहां पेड अवकाश भी 'पर्क" है। छुट्टियां मोलभाव का विषय है। वहां की कई कंपनियां 5 से 15 दिन का वेतन सहित अवकाश उपहार के रुप में देती हैं। पाश्चात्य देशों की वैज्ञानिकप्रगति, अनुशासनप्रियता, स्वच्छता की सबसे अधिक प्रशंसा करनेवालों में हम ही सबसे आगे हैं। परंतु, उनकी तरह कर्मप्रधान होने की बजाए सर्वाधिक छुट्टियां मनानेवालों में भी सबसे आगे हम ही हैं।

हमारे यहां साप्ताहिक अवकाश के रुप में रविवार के अतिरिक्त महापुरुषों के नाम पर छुट्टियां चाही जाती हैं। हमारे नेता भी सस्ती लोकप्रियता और वोट बैंक की राजनीति के चलते सत्ता में आते ही अपनी विचारधारा के नेताओं के नाम पर छुट्टियां घोषित करते चले जाते हैं। मानो यह सबका संविधान प्रदत्त हक हो। लेकिन निजी कंपनियों के लोग और मजदूरों को यह नसीब नहीं होती। आपको आश्चर्य होगा कि सप्ताह में एक दिन का अवकाश-रविवार का अवकाश जो हम सबको अति प्रिय है वह भी एक जमाने में भारतीयों को लडकर लेना पडा था और आज से सवासौ वर्षों पूर्व तक तो उन्हें यह भी नहीं मिलता था। रविवार का सबसे पहला अवकाश 10 जून 1890 को मिला था। वह भी अंगे्रज बहादुर की कृपा से नहीं बल्कि नारायण मेघाजी लोखंडे के कारण जिन्होंने इसके लिए ब्रिटिशों से 6 साल तक लडाई लडी थी। लेकिन स्वतंत्रता के बाद हमें अधिकार क्या मिले हम छुट्टियां मांगते चले जा रहे हैं, मिलती चली जा रही हैं और महत्वपूर्ण काम देरी से होने के कारण राष्ट्रीय हानि हो रही है परंतु हममें से कोई भी परवाह नहीं कर रहा।

व्ही. पी. सिंह प्रधानमंत्री बनने के पूर्व तक पैगंबर मुहम्मद के नाम पर छुट्टी नहीं मिलती थी। अर्जुनसिंह ने अपने मुख्यमंत्रीत्व काल में सतनामी समाज के संत घासीदास के नाम पर अवकाश घोषित किया था। जिन्हें म. प्र. के अधिकांश लोग जानते तक नहीं थे। लेकिन छुट्टी पूरा प्रदेश मना रहा था। उत्तर प्रदेश सरकार तो इस मामले में सबसे बाजी मार गई है। वहां इस वर्ष 37 शासकीय अवकाश घोषित किए गए हैं और इसके खिलाफ लोग कोर्ट में भी चले गए हैं। इन छुट्टियों को घोषित करने के पीछे यह राजनीति काम करती है कि इस बहाने सरकारी कर्मचारियों-उनके परिवारों के साथ ही कुछ सामाजिक वर्गों को भी प्रसन्न किया जा सके जिन्हें आगे जाकर चुनावों में वोटों में तब्दील किया जा सके। 

आखिर में इन महापुरुषों के नाम पर इतनी सारी छुट्टियों का औचित्य ही क्या है। नेहरुजी और इंदिरा गांधी के जन्मदिन पर तो कोई छुट्टी नहीं होती तो क्या लोग उनको याद नहीं करते या उनके योगदान को भूल गए हैं। नेहरुजी कहा करते थे 'आराम हराम है"। गांधीजी के नाम पर छुट्टी दी जाती है। सच बताइए कितने लोग इस दिन गांधीजी को याद करते हैं और करते हैं तो किसलिए यह 'मुन्नाभाई सीरिज" की एक फिल्म से पता चल जाता है। कितने लोग गांधीजी के बताए रास्ते पर चलने का प्रयत्न करेंगे यह ठानते हैं। यदि ठानते होते तो आज देश में इतनी न तो हिंसा होती न हिंसा प्रधान फिल्में बॉक्स ऑफिस के रिकॉर्ड तोडती नजर आती। सभी महापुरुष तो हमेशा कर्मप्रधान रहे, अपने विचारों पर अडिग रहे। उन्होंने आजीवन अपने को देश और समाज के लिए कर्मरत रखा इसीलिए तो आज वे महापुरुष हैं, श्रद्धेय हैं। लेकिन हम उनके नाम पर छुट्टियां चाहते हैं। उसे प्रतिष्ठा का विषय बनाते हैं और छुट्टी मिलने के बाद मौज-मजा, सैर-सपाटे पर निकल जाते हैं या निठल्ले घर में बैठे रहते हैं। और भूले भटके कभी रविवार को इनके नाम पर मिलनेवाली छुट्टी आ गई तो लोग बडे दुखी हो जाते हैं कि अरे, यार एक छुट्टी फोकट में ही मारी गई।

भारत एक प्रजातांत्रिक देश है इसलिए जो कुछ होता है वह जनसंख्या के आधार पर ही होता है इस आधार पर तो हर 2, 3 करोड का समूह यदि अपने महापुरुषों या धर्म-संप्रदाय के त्यौहारों पर छुट्टी मांगने लगे तो, क्या यह देना संभव है? और यदि नहीं दी इसलिए वे धमकाने लगे ... और दी जाने लगी तो कल्पना कीजिए क्या होगा? क्योंकि, जब हम कुछ महापुरुषों के जन्मदिन पर और उस समूह के धर्म के आधार उसके त्यौहारों पर छुट्टी देते हैं तो इस आधार पर सभी समूहों को छुट्टियां दी जाना चाहिए और इस आधार पर तो मेरे खयाल से शायद और 100 छुट्टियां देना पडेंगी। कुछ विद्वानों के मतानुसार साल के 365 दिन में से हम केवल 150-55 दिन काम करते हैं। इस प्रकार से तो बमुश्किल दो महीने ही काम करेंगे बाकी समय मौज-मजा करेंगे। यह तो संभव नहीं इसलिए बेहतर यही होगा कि इस प्रकार की सभी छुट्टियां निरस्त की जाएं।

इस वर्ष यानी सन्‌ 2015 में केंद्र सरकार की घोषित छुट्टियां हैं 18 और वैकल्पिक 33, 1 मई की छुट्टी अलग से दी हुई है। म. प्र. शासन ने 24 अवकाश सामान्य और 57 वैकल्पिक अवकाश घोषित किए हैं उनमें से तीन लिए जा सकते हैं। केंद्र में तो पांच दिन का सप्ताह है इस आधार पर शनिवार-रविवार के लगभग 104 अवकाश बनते हैं। तो म. प्र. में 77। हडतालें आदि होती रहती हैं और हमारे कुछ चतुर कर्मचारी भाई अपनी छुट्टियों को उस हिसाब से भी एडजस्ट कर लेते हैं इसके अतिरिक्त स्थानीय अवकाश अलग से घोषित होते ही हैं। सी. एल., ई. एल. आदि अलग से हैं। उदा ः. सन्‌ 2012 में बैंककर्मियों ने दो दिन की हडताल की थी उसके पूर्व संलग्न तीन दिनों की छुट्टियां थी एक दिन और छुट्टी ले ली तो बढ़िया फेमिली टूर बनाया जा सकता था और कुछ भाई लोगों ने बनाया भी था। इस वर्ष भी इस प्रकार के बहुत से मजे के अवसर उपलब्ध हैं उसी पर अब नजर डालेंगे। 

जाते हुए वर्ष एवं नववर्ष के आगमन पर कई लोग पूरे साल क्या-क्या करना है, कौनसी उपलब्धियां हासिल करना है की योजनाएं बनाने में लग जाते हैं तो कुछ लोग केवल आनंद ही आनंद के प्लानिंग में छुट्टियों का गणित बैठाने में जुट जाते हैं। हर वर्ष की तरह इस वर्ष भी सरकारी कर्मचारी-अधिकारियों को जो तडी मारने, लेटलतीफी, काम के घंटों के दौरान गप्पे हांकने या घरेलु काम निपटाने, कामचोरी, आदि में माहिर हैं की छुट्टियों की विपुलता के कारण चांदी ही चांदी है।

1. जनवरी से आरंभ करते हैं नए वर्ष का प्रारंभ ही चार छुट्टियों से हुआ। एक जनवरी को छुट्टी थी 2 को सी.एल ले ली 3,4 (ईद मिलाद उन नबी) शनिवार रविवार था। 23 जनवरी को सुभाष जयंती, 24,25 'वीक एंड" 26 जनवरी को राष्ट्रीय अवकाश। 

2. फरवरी की पहली तारीख को रविवार की छुट्टी थी। 3 को रविदास जयंती। 14, 15 शनिवार, रविवार 16 को या तो तडी मार दी या सी. एल. ले ली तो 17 को महाशिवरात्री का आनंद डबल हो गया। 18 को बहुत से लोग काम के मूड में नहीं रहे इतनी छुट्टियों का आनंद भूले जो नहीं थे। फिर उपवास का भारी फरियाल भी तो किया था। महाराष्ट्र में तो 19 को छत्रपति जयंती के कारण छुट्टी मनाई गई यानी हर एक दिन छोडकर छुट्टियों का लुत्फ उठाया गया। क्योंकि, 21, 22 वीक एंड था। 

3. मार्च की शुरुआत भी रविवार यानी छुट्टी से हुई। 6 को धूलंडी थी फिर वीकएंड था। 21 मार्च गुढ़ी पडवा 22 रविवार छुट्टी।

4. अप्रैल के शुरुआत में ही 2 महावीर जयंती, 3 को गुडफ्रायडे, 4 को शनिवार हनुमान जयंती और 5 को रविवार की छुट्टियां रही। 11, 12 को शनिवार-रविवार था। 13 को एक छुट्टी ले ली तो 14 को फिर अंबेडकर जयंती की छुट्टी थी। 21 अप्रैल को अक्षय तृतीया-परशुराम जयंती की छुट्टी थी परंतु सरकारी कार्यालयों में छुट्टी का माहौल 18-19 के वीक एंड से प्रारंभ होकर पूरे सप्ताह बना रहा और कार्यालयों में कामकाम की शुरुआत धीरे-धीरे 27 से ही हो सकी। सभी कर्मचारी शादी-ब्याह में व्यस्त रहे। सरकारी कार्यालयों में 30 में से 18 दिन छुट्टियों का माहौल बना रहा।  
5. मई की शुरुआत ही छुट्टीवाले दिन से हुई 1 मई मजदूर दिवस, 2, 3 वीक एंड 4 को बुद्धपूर्णिमा की छुट्टी। हाल-फिलहाल जून-जुलाई जरुर छुट्टियों से मुक्त रहेंगे। केवल 18 जुलाई शनिवार को ईद-उल-फितर की छुट्टी रहेगी।

6. अगस्त में 5 रविवार हैं। 15 अगस्त के बाद 16 को रविवार की छुट्टी है। यदि 17 को कुछ एडजस्ट कर लिया गया तो 18 को पतेती (पारसी नववर्ष) की छुट्टी (महाराष्ट्र में) है ही। कुल 8 छुट्टियां हैं।  

7. 5 सितंबर शनिवार जन्माष्टमी।17 सितंबर को गणेश चतुर्थी है 19-20 वीक एंड 18 को जुगाड जमा ली जाए तो संलग्न 4 छुट्टियां। यही हाल 24 से 27 तक का है । 24 या 25 को ईदुज्जहा 26, 27 वीक एंड।  इस प्रकार की संलग्न मिलनेवाली छुट्टियों के कारण कई माता-पिता यह भी सलाह देते मिल जाते हैं कि अपने बच्चों को अपने शहर के निकट के शहर में  यदि संभव हो तो पढ़ने मत भेजो। यदि भेजना ही हो तो दूर ही भेजो या भेजो ही मत क्योंकि साल भर में कई बार इस प्रकार की संलग्न छुट्टियों के कारण बच्चे बार-बार घर चले आते हैं पढ़ाई का तो नुक्सान होता ही है पैसा भी बेजा खर्च होता है। मेरे एक शिक्षाविद मित्र के अनुसार उनके 47 साल के शैक्षणिक अनुभव का निचोड यह है कि साल भर में किसी भी हालत में 180 दिन से अधिक स्कूल लगते ही नहीं तो कोर्स कैसे पूरा होगा। शिक्षक बच्चों को उनका पाठ्यक्रम पूर्ण करवाएं कैसे? 

8. अक्टूबर 2 शुक्रवार को गांधी जयंती है 3, 4 वीक एंड है यानी 3 दिन छुट्टियों के। 22 को दशहरा है 23 को कार्यदिवस कैसे जाएगा यह बतलाने की आवश्यकता नहीं ! 24 (मोहर्रम), 25 वीक एंड और 27 को वाल्मिकी जयंती।

9. नवंबर छुट्टियों का महिना है। 1 को रविवार है और कुल 5 रविवार हैं इस महिने में। 7, 8 वीक एंड है। 9 तारीख धनतेरस से दीपावली प्रारंभ हो रही है, 10 को नरक चतुर्दशी या रुपचौदस है, 11 को लक्ष्मी पूजन, 12 को बलिप्रतिपदा या पडवा, गोवर्धन पूजा है, 13 को भाईदूज। 14, 15 वीक एंड। संलग्न 9 दिन छुट्टियों का आनंद उठाने के बाद 16 को या तो सरकारी कर्मचारी हमेशा से अधिक लेट आएंगे या आएंगे ही नहीं, पूछनेवाला भी या तो आएगा नहीं आ भी गया तो पूछने की जहमत नहीं उठाएगा उसे भी सब मालूम है, आदत में आ गया है। कर्मचारी आ भी गए तो दीवाली कैसी रही पर गंभीर चर्चा करेेंगे। काम का माहौल बनते बनते ही बनेगा, जनता भी अब समझदार हो गई है वह भी एक दिन और सही कहकर धका लेगी। इतने पर ही बस नहीं अभी तो दो वीक एंड और 25 नवंबर को गुरुनानक जयंती की छुट्टियां बाकी हैं।

10. साल जाते जाते भी कर्मचारियों पर मेहरबान है। 24 गुरुवार को ईद मिलाद दूसरी बार आई है। 25 को क्रिस्मस 26, 27 वीक एंड। इन सब का परिणाम जनता के काम न होने के रुप में सामने आता है। एक तो कई कर्मचारी गायब रहते हैं ऊपर से कई विभागों में तो सतत बैठके होती रहती हैं अधिकारीयों को उसमें भाग लेना रहता है इस कारण से भी जनता के काम रुकते हैं। इसलिए छुट्टियों पर नियंत्रण आवश्यक है। इस लेख में 'वीक एंड" का उल्लेख इसलिए बार-बार किया गया है क्योंकि जहां पांच दिन का अवकाश नहीं होता वहां भी शनिवार को छुट्टी हो या नहीं सरकारी ऑफिसों में काम नहीं होगा यह मानसिकता ही अब बन सी गई है और जनता भी अपेक्षा नहीं करती कि इस दिन कुछ काम होगा। बेहिसाब छुट्टियों का यह सिलसिला बरसों से चला आ रहा है इस वर्ष भी है और आनेवाले वर्ष का आगाज भी छुट्टियों से ही होनेवाला है। 2,3 जनवरी वीक एंड है। 
कई छुट्टियां तो ऐसी हैं कि जो मिलना ही नहीं चाहिए या केवल उन्हें ही मिले जो संबंधित हैं। उदाहरणार्थ ः पारसियों के नववर्ष 'पतेती" की छुट्टी। इस संबंध में पहली बात तो यह है कि सरकारी नौकरियों में पारसी हैं ही कितने और उनकी आबादी है ही कितनी और जो है वह देश के कुछ क्षेत्रों तक ही सीमित है और कितने बहुसंख्य समाज के लोग इस बारे में जानते हैं या उसमें सम्मिलित होते हैं। यही बात मुस्लिम या ईसाई समुदाय के त्यौहारों के संबंध में भी कही जा सकती है। कितने हिंदू बकरा ईद मनाते हैं। सरकार चाहे तो इन समुदायों को अलग से छुट्टी दे या उस दिन अन्य कोई विशेष सुविधा भी दी जा सकती है जैसेकि अमेरिका के न्यूयॉर्क शहर में दीपावली के दिन पार्किंग फ्री होती है। मेरे मत से तो रविवार के अतिरिक्त राष्ट्रीय त्यौहारों के नाम पर 15 अगस्त और 26 जनवरी की ही छुट्टियां यानी कुल मिलाकर दो छुट्टियां हों इसी प्रकार बहुसंख्य लोग किसी ना किसी रुप में दीवाली मनाते हैं या इस त्यौहार से जुडे हुए हैं अतः इन त्यौहारों पर दो या तीन दिन की छुट्टी दी जाना चाहिए बाकी सभी छुट्टियां समाप्त कर दी जाना चाहिएं। जिन्हें यह मान्य नहीं वे अपना वेतन कटवाएं और लें छुट्टियां।   
 वर्तमान में हो यह रहा है कि बेचारी जनता कर कुछ नहीं सकती, मन ही मन कुढ़ती रहती है। हैरान-परेशान होती रहती है। रिश्वत देने के बाद भी समय पर काम इन छुट्टियों की विपुलता के कारण होता नहीं है और यदि रिश्वत नहीं दी तो इन छुट्टियों का उपयोग हथियार के रुप में करने में सरकारी अधिकारी-कर्मचारी माहिर हैं। इन बेतहाशा बढ़ती छुट्टियों के कहर के कारण कार्यदिवस की हानि होती है, कार्यसंस्कृति का ह्रास होता है इसलिए जनता तो चाहती है कि छुट्टियां कम हों परंतु, एक भी कर्मचारी संगठन जो वेतन एवं सुविधा वृद्धि के नाम पर एकजुट हो अपनी मांगे मनवाने पर उतारु रहते हैं वे भूले से भी अपने संगठन के सदस्यों को ईमानदारी और तेज गति से काम करो, छुट्टियां कम करो, कार्यालयीन समय में गायब मत रहा करो कि अपील करते कहीं नजर नहीं आते हैं। ना ही सरकार से कभी कहते हैं कि हमारी छुट्टियों में कमी की जाना चाहिए जिससे कि सरकारी काम तेज गति से हों।
हमारे देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के कार्यकाल को एक वर्ष पूर्ण हो चूका है और जब उन्होंने पूरे वर्षभर में एक दिन की भी छुट्टी नहीं ली है और सतत परिश्रम कर रहे हैं तो, इन सरकारी कर्मचारी-अधिकारियों, उनके संगठनों और साथ ही बात बे बात छुट्टियां घोषित करनेवाले नेतागणों को भी तो कुछ सोचना चाहिए। लेकिन वे सोचते नजर आते नहीं। अतः अब केंद्र सरकार ही सबसे पहले पहल करे और बिना किसी की परवाह किए राष्ट्रीय हित में तत्काल छुट्टियों में कटौती प्रारंभ करे। कर्मचारियों के गायब रहने, लेटलतीफी के प्रति सख्ती दिखाए। देखिए कितने शीघ्र देश की सूरत बदली हुई नजर आने लगेगी।

Saturday, 20 June 2015

योगशास्त्र पर सावरकरजी के विचार

योगशास्त्र पर सावरकरजी के विचार

सावरकरजी की योगशास्त्र में रुचि युवावस्था में ही हो गई थी। उनके काव्य 'सप्तर्षि" और 'माझी जन्मठेप" (मेरा आजन्म कारावास) में योगशास्त्र का उल्लेख मिलता है। स्वामी विवेकानंद का राजयोग उनका प्रिय ग्रंथ था। स्नान के बाद ध्यानधारणा करना उनका नित्यक्रम था। उन्होंने अखिल हिंदू ध्वज पर कृपाण के साथ कुंडलिनी को स्थान दिया था।

योगशास्त्र - मानव को एक वरदान

योगशास्त्र का वर्णन मानवी जीवन को एक श्रेष्ठ वरदान के रुप में किया जा सकता है। इस प्रयोगाधारित शास्त्र को हिंदुओं ने पूर्णत्व तक पहुंचाया है।
योगशास्त्र मनुष्य की आंतरिक शक्तियों के संपूर्ण विकास का एक सर्वश्रेष्ठ शास्त्र है।

व्यक्तिगत अनुभवों का शास्त्र

योगशास्त्र व्यक्तिगत अनुभवों का शास्त्र है इसलिए उसमें मतभेद को स्थान नहीं।

गुप्त नहीं शास्त्र है
योग गोपनीय न होकर एक शास्त्र है।

मनुष्य का सर्वश्रेष्ठ ध्येय

योग को आचरण में लानेवाले मनुष्य में आश्चर्यकारी, इंद्रियातीत और उत्कंट प्रसन्नता प्राप्त होती है। इस अवस्था के बारे में योगी कैवल्यानंद कहते हैं - वज्रायनी महासुख। अद्वैती ब्रह्मानंद और भक्त प्रेमानंद कहते हैं - यह सर्वश्रेष्ठ आनंद प्राप्त कर लेना मनुष्य का फिर वह हिंदू या अहिंदू, आस्तिक हो या नास्तिक, नागरिक हो या वनवासी हो, सर्वश्रेष्ठ ध्येय है। (वि. दा. सावरकर)

Monday, 15 June 2015

अधिकस्य अधिकम्‌


अधिकस्य अधिकम्‌

वैश्वीकरण, निजीकरण, उदारीकरण, बाजारवाद की संकल्पनाओं के कारण सारी दुनिया में कुहराम मचा हुआ है। इसके कारण उपभोक्तावाद भी बहुत तेज गति से बढ़ा साथ ही फुजूलखर्ची, भ्रष्टाचार, बिनाकारण खर्च करना की प्रवृत्ति भी बढ़ने लगी,  विपुलतावाद, मौज-मजा की संस्कृति ने पांव फैलाना प्रारंभ कर दिया, मितव्ययिता शब्द ही मानो परिदृश्य से गायब होता चला जा रहा है। राजनैतिक, सामाजिक, स्वास्थ्य-परीक्षा, शैक्षणिक आदि सभी क्षेत्रों में इस प्रवृत्ति ने पांव फैलाना प्रारंभ कर दिया है। अधिकस्य- अधिकम्‌ की होड मची है।

विदेशों में लोग सप्ताह में पांच दिन 14 से 15 घंटे जमकर काम करते हैं फिर बचे हुए दो दिनों में 'वीक एंड" मनाते हैं। उसके लिए किसी शांत स्थान पर जाना वे पसंद करते हैं। वहां मौज-मजा, खाना-पिना करते हैं, कमाए हुए पैसे को खर्च करते हैं और आकर फिर काम में जुट जाते हैं। हमने केवल उत्तरार्ध स्वीकारा है। (कारपोरेट क्षेत्र में काम करनेवाले लोग अपवाद हैं) एक तो हमारे यहां मिलनेवाला वेतन या काम-धंधे से होनेवाली आय विदेशों की तुलना में कम है जिसमें जैसे-तैसे गुजारा हो सकता है। सिवाय बेरोजगारों की फौज फालतू घूम रही है। हमारे यहां कई अधिकारी-कर्मचारी बडी शान से यह कहते मिल जाएंगे कि मजे की नौकरी है कोई टेंशन नहीं अब ऐसे लोगों को क्या कहें? लेकिन प्रत्येक को कम से कम कष्ट उठाकर अधिक से अधिक ऐशोआराम चाहिए  और इसके लिए कुछ भी करने को लोग तैयार हैं इसीके कारण भ्रष्टाचार और लूट की प्रवृत्ति तेजी से बढ़ी है। अच्छे, ईमानदार लोग एकाकी, उपेक्षित और उपहास के पात्र बनते जा रहे हैं।

इस मौज-मजा की संस्कृति को फिल्में, टी. व्ही. और उनपर आनेवाले विज्ञापन बढ़ावा दे रहे हैं जिनका बहुत बडा प्रभाव आज के युवाओं पर नजर आ रहा है। फिल्मी अभिनेता-नेत्री किस प्रकार का व्यवहार करते हैं, कौनसी फैशन करते हैं, कैसे गहने, कपडे पहनते है इसी पर उनका ध्यान है। चित्रपट बाजार में आते ही या कोई सा सीरियल लोकप्रिय होते ही उसी नाम के गहने, कपडे बाजार में बिकने लगते हैं। बाजार, शॉपिंग मॉल, बडे शोरुम में बिना जेब की परवाह किए खर्च किए जा रहे हैं। फास्ट फूड संस्कृति ने घर-घर में प्रवेश कर लिया है।  घर के भोजन के बजाए होटलों में जाने का कल्चर बढ़ रहा है। कई परिवार तो छुट्टी के दिन बाहर ही भोजन करते हैं। ग्रामीण क्षेत्र भी अछूते नहीं रहे हैं वहां भी ढ़ाबे में जाकर भोजन करने की पद्धति रुढ़ हो रही है।  

आवश्यकता हो या न हो नए-नए दोपहिया वाहन वह भी महंगे से महंगे लेने का रुझान बढ़ रहा है साथ ही कई मोबाईल एक साथ रखना और उन्हें सतत बदलते रहना का चलन भी क्या शहर और क्या गांव दोनो में ही बढ़ता चला जा रहा है। आज हर एक के हाथ में मोबाईल है यह बात अलग है कि वे इसका सदुपयोग कितना और दुरुपयोग कितना करते हैं। इस मोबाईल ने मनुष्य के सारे जीवन को ग्रसित कर लिया है सभी जानते हैं कि इस मोबाईल से हमें लाभ कम हानि अधिक हो रही है फिर भी इसको प्रतिष्ठा का प्रश्न बना लिया गया है। अधिकांश बच्चे और युवा इस पर 24 घंटे चॅटिंग करने में लगे रहते हैं या गेम खेलते रहते हैं। सुविधाएं स्वीकारने की प्रवृत्ति भी बढ़ती ही जा रही है एकने किया इसलिए दूसरे को भी वह आवश्यक लगने लगता है।

 भौतिक सुख सुविधाएं हमारे लिए ही हैं परंतु हम उनके कितने अधीन हों यह हम नहीं संबंधित कंपनियां तय कर रही हैं। रोकडा  नहीं हों तो क्रेडिट कार्ड है इस कारण अनावश्यक खरीदी और जो नहीं चाहिए वह हम स्वीकारते हुए ऑफर्स की बलि चढ़ रहे हैं।  इस क्रेडिट कार्ड के कारण पैसा खर्च करते समय में मन में जो टीस उठती है वह नहीं उठती और कितना पैसा खर्च हो गया का भान हमें नहीं रहता। देशी पौष्टिक पेय गन्ने का रस, छाछ, दूध, लस्सी, फलों का रस पीने के स्थान पर पेप्सी और कोला जैसे पेयों की खपत अधिकतम होती जा रही है। आम का रस पीने के स्थान पर कंपनियों का आम से बना ठंडा पेय हमें पसंद होते चले जा रहा है। सारी दुकानें यहां तक की पान की दुकान तक पर यह उपलब्ध हैं और खपत इतनी अधिक है कि उनकी शॉर्टेज भी होती है। एक लीटर दूध की कीमत इन पेयों से कम है परंतु, पीनेवाले गायब हैं। आज भी ग्रामीण क्षेत्र में कई गांवों में पिने के पानी के लिए महिलाओं को मीलों भटकना पडता है जहां जलयोजनाएं आज तक पहुंच नहीं सकी हैं ऐसे क्षेत्रों में भी बहुराष्ट्रीय कंपनियों के शीतल पेय, चीप्स-वेफर्स बडी सहजता से उपलब्ध हैं। यह किस बात का द्योतक है।

 बाजारवाद के केंद्र में है उपभोक्ता यानी कंज्यूमर और कंज्यूमर कंज्यूम करेगा तभी तो उत्पादन बढ़ेगा एवं उत्पादन और खपत बढ़ेगी तभी कंपनियों को लाभ होगा इसलिए कंपनियां उपभोक्ताओं को आकर्षित करने के लिए ग्राहक की क्रय शक्ति हो या न हो उसे कर्ज मुहैया कराने में पीछे हटती नहीं हैं और लोग भी अधिकाधिक सुविधाएं जुटाने के लिए कर्ज लेकर कर्ज में डूबते चले जा रहे हैं। हमारा पुराना अनुभव सिद्ध मंत्र 'जितनी चादर हो उतने ही पांव पसारो" को हम भूल जाएं इसलिए वे 'जितने चाहे पांव पसारो चादर हम दे देंगे" का लालच दिखाकर हमें उपभोगवादी बनाने पर तुले हैं। वे इस प्रकार के विज्ञापन बडे ही सुनियोजित ढ़ंग से दिखा रहे हैं कि यदि आपने फलां-फलां वस्तु का उपयोग नहीं किया तो लोग आप पर हंसेंगे और हम भावनाधीन हो बलि चढ़ रहे हैं। कारपोरेट क्षेत्र के लोगों को छोड बाकी लोगों की आय इतनी नहीं कि वे इस उपभोगवादी संस्कृति को स्वीकारे परंतु, वे स्वीकारते चले जा रहे हैं और अपना सुख-चैन खोते जा रहे हैं। इस झूठे नशे के अधीन हो उनकी बुद्धि भ्रष्ट हो रही है, वे पतन की और बढ़ रहे हैं एवं कई संयम खोने के कारण आत्महत्या की ओर भी बढ़ जाते हैं।

ये बहुराष्ट्रीय कंपनियां अपनी अपार धनराशी के बलबूते और साम-दाम-दंड-भेद की नीति को अपना स्थानीय व्यापार, उद्योगों को समाप्त कर देना चाहती हैं। एक बार यहां का व्यापार-उद्योग-धंधा ठप्प हुआ कि ये ग्राहकों को विकल्प ना होने के कारण मनमाने भाव पर सामान बेचेंगी। इसके लिए वे ऑफर्स का सहारा ले रही हैं हम हमारे बचत के मंत्र को भूल रहे हैं। हमें पुराने मंत्र बचाते रहो बचाते रहो के संदेश का अवलंबन कर इसका प्रचार करेंतो अधिक बेहतर होगा।   

हमारे राजनेता भी इस उपभोगवाद को बढ़ा रहे हैं। हर चुनाव के समय जो की लगभग साल भर ही चलते रहते हैं। युवाओं को साथ लेकर उन्हें जो चाहिए वह दिया जाता है और युवा भी मुफ्त में मिल रहा है इसलिए महंगा भोजन, शराब, पान-गुटखा सिगरेट का सेवन करने लगते हैं व्यसनाधीन हो जाते हैं और जब चुनाव के बाद यह सब मिलता नहीं तो गलत रास्ते पर निकल पडते हैं। यदि अपराधों पर नजर डालें तो दिख पडेगा कि समाज के सभी स्तरों के युवक अपराधों की ओर बढ़ते नजर आ रहे हैं। बात इतनी अधिक बढ़ती जा रही है कि मां या दादी बेजा खर्च के लिए पैसे ना दे तो वे हत्या तक कर गुजरते हैं। राजनैतिक दल जनता की सभी अपेक्षाओं को तो पूरा कर नहीं सकते और उम्मीदवार को तो चुनाव जीतना है इसलिए वह सुविधाएं लोगों को बांटकर वोट कबाडता है। एक प्रकार से यह भी तो मुफ्त में मौज मजा की संस्कृति को बढ़ावा देने का एक एक्सटेंशन है। परिणाम सभी जानते हैं भ्रष्टाचार।

यदि मौज-मजा संस्कृति को स्वीकारना ही है तो हमें अपनी आय बढ़ाना होगी। परंतु, हमारे यहां इतने अवसर नहीं। सिक्स्‌थ पे कमीशन के बाद सरकारी नौकरियों में वेतन अवश्य अत्यंत आकर्षक हो गए हैं परंतु वह नौकरियां मिलना आसान नहीं और कारपोरेट कंपनियों को छोडकर अन्य नौकरियों में कोई वेतन कोई खास नहीं। अब पीछे भी जा नहीं सकते पुराने जमाने की मितव्ययिता से गुजारा करना भी संभव नहीं। जो है उसे स्वीकारते हुए एक ही रास्ता बचता है वह है अधिकाधिक मेहनत, मेहनत और कठिन मेहनत। हम अमेरिका में तो हैं नहीं जहां की अर्थव्यवस्था अधिकाधिक खर्च पर चलती है, वहां क्रेडिट कार्ड के बलबूते लोग जीते हैं, साथ ही सरकार की ओर से सोशल सिक्योरिटी होने के कारण नौकरी या आय के साधन नहीं मिलने पर कोई भूखा नहीं मरे इसकी व्यवस्था सरकार करती है। परंतु, हम तो बचत पर निर्भर हैं, उसे ही बढ़ाना होगा जितना संभव हो सके बचाएं। यह ना भूलें कि हमारे यहां सोशल सिक्योरिटी सरकार की ओर से नहीं है। यदि नहीं समझे तो फिर घर फूंक तमाशा ही होगा लेकिन यह भी कितने दिन चलेगा। इसलिए मेहनत का मार्ग स्वीकारें, मौज मजा को नियंत्रित रखें। अपनी आवश्यकताओं को बेजा बढ़ाएं नहीं।

Saturday, 6 June 2015

आचरण बदलने पर ही स्वच्छ भारत का सपना साकार हो सकेगा

आचरण बदलने पर ही स्वच्छ भारत का सपना साकार हो सकेगा
प्रधानमंत्री मोदी के कार्यकाल के एक वर्ष पूर्ण होने पर मीडिया में जो व्यापक चर्चाएं आयोजित की गई थी उन्हें देख-सुनकर ऐसा लगने लगा मानो देश में ऐसा कुछ अभूतपूर्व घटित हो गया है जैसाकि आज तक घटित नहीं हुआ है। हां, ऐसा अभूतपूर्व कुछ घटित हो सकता था यदि मोदी की महत्वाकांक्षी घोषणा स्वच्छ भारत सफल हो जाती तो। परंतु, वह तो बुरी तरह असफल हो गई है जो खुली आंखों दिखाई पड रहा है और इसके जिम्मेदारों में हम आम लोग भी हैं जिनमें से कई सरकार की उत्तमता का प्रमाणपत्र  दे रहे हैं साथ ही मोदी के पार्टीजन भी हैं जिन्होंने अपनी हरकतों से इस बहुउपयोगी महत्वाकांक्षी योजना का मजाक बना कर रख दिया। पार्टीजन मोदी से प्रेरणा ले यदि ईमानदारी से इस अभियान को सफल बनाने में जुट जाते तो वास्तव में यह एक ऐसा महान ऐतिहासिक कार्य होता कि सरकार गर्व से कह सकती थी कि सरकार का एक वर्ष का कार्यकाल अभूतपूर्व रहा है और सारी दुनिया भी अपनी स्वीकृती बडी प्रसन्नता से देती एवं बाकी सारे ऐब, असफलताएं इस आड में छुप जाती जो आज विपक्ष उघाडने पर उतारु है और ऐसी स्थिति में जनता भी विपक्ष की इन आलोचनाओं को कोई खास तवज्जो नहीं देती। क्योंकि, स्वच्छता के लाभ उन्हें नजर आने लगते।

पार्टीजन यदि इस मुद्दे पर गंभीरता पूर्वक कार्य करने की ठानते तो उनके ध्यान में आता कि स्वच्छता के लिए दो पहलुओं पर ध्यान देना आवश्यक है। पहला प्रशासन और दूसरा आम नागरिक जिन्हें चाहे जहां कचरा फैलाने में महारत हासिल है इसमें उन्हें कोई संकोच नहीं होता ना ही ऐसा कुछ लगता है कि यह गलत है। प्रशासन की दृष्टि स्वच्छता के मामले में कैसी है यह तो जगजाहिर है। मोदी के आवाहन पर स्वच्छता अभियान से जुडे सेलेब्रिटिज की भूमिका तो स्वयं को चमकाने की यानी लाइम लाइट में रहने की ही रही। और सोशल मीडिया वीर तो स्वच्छता के संदेश को शेअर, फॉरवर्ड करने तक ही सीमित रहे, झाडू हाथ में लेना भूल गए। जो आए भी उन्हें आगे मार्गदर्शन नहीं मिला। प्रारंभ में उत्साह से जुडे लोग बाद में कौन छुट्टी के दिन हम्माली करे की भावनावश धीरे से दूर हो गए। 

पार्टीजन यदि स्वच्छ भारत अभियान को सफल बनाने के लिए जनता से नियमित संपर्क में रहते, स्वच्छता अभियान में सततता बनाए रहते तो उन्हें कई ऐसे लोग नजर आ जाते जो कई छोटी-छोटी बातों को आचरण में लाकर अपने आसपास के परिसर को स्वच्छ रखने में योगदान देते हैं। उदाहरणार्थ मेरे एक मित्र जो डॉक्टर हैं और स्पूतनिक परिवार से संबद्ध भी होने के साथ ही स्पूतनिक की नीति लोग शौचालय एवं स्वच्छता के प्रति जागरुक हों से इत्तिफाक भी रखते हैं का दृष्टिकोण एवं व्यवहार अनुकरणीय है। वे अपनी दुकान (क्लीनिक) एवं उसके सामने के फुटपाथ को स्वयं स्वच्छ तो करते ही हैं साथ ही दिन भर उड-उडकर आनेवाले कचरे को समय-समय पर स्वयं ही उठाकर डस्टबिन में डालते रहते हैं और अपने सहायक के द्वारा या स्वयं ही निकट की कचरा पेटी के अंदर डाल भी आते हैं। फैंकी हुई चाकलेट की जिलेटिन या जर्मन पन्नियों या दवाइयों की स्ट्रीप्स को अलग से एकत्रित कर उसकी गोल गेंद के रुप में स्क्रब बना बरतन साफ करने के उपयोग में भी लाते हैं। 

जबकि अधिकांशतः होता यह है कि सभी व्यवसायी, दुकानदार प्रतिदिन सुबह दुकान या अपना प्रतिष्ठान खोलते से ही दुकान की स्वच्छता के साथ ही साथ अपनी दुकान के सामने के फुटपाथ को भी झाडू से साफ अवश्य करते हैं जिससे उनकी दुकान के सामने स्वच्छता नजर आए। परंतु, अधिकांश मामलों में यह देखा जा सकता है कि वे सारा कचरा एक ढ़ेर बनाकर दुकान से थोडा दूर सामने के एक कोने में यह सोचकर एकत्रित करके रख देते हैं कि चलो हमारी दुकान के सामने तो स्वच्छता है। परंतु, होता यह है कि थोडी ही देर में वही कचरा आनेजानेवाली गाडियों या हवा के चलने या पैदल चलनेवालों के पांवों के कारण फिर से फैल जाता है और उड-उडकर दूकानों के सामने या अंदर आने लगता है। कुछ लोग तो इस मामले में और भी अधिक होशियारी दिखाते हैं। वे अपनी दुकान या घर के सामने का कचरा दूसरे की दुकान या मकान के सामने एकत्रित करके रख देते हैं।

पार्टीजन उपर्युक्त प्रकार के उदाहरण देकर उन व्यवसायियों को बता सकते कि यदि वे वास्तव में स्वच्छता चाहते हैं और अपनी दुकान के साथ ही साथ आसपास का परिसर भी स्वच्छ रहे तो इसके लिए उन्हें यह कचरा डस्टबिन में एकत्रित कर उसे निकट की कचरा पेटी के अंदर डाल आना चाहिए। चूंकि, वे इतनी जहमत उठाते नहीं हैं और इस कारण बाजारों में स्वच्छता नजर आती नहीं है। वे उन्हें बता सकते हैं कि, इस प्रकार से विचार करें तो और भी कई छोटी-छोटी बातें हमें करने लायक नजर आ जाएंगी जिन्हें आचरण में लाकर हम स्वच्छ भारत अभियान को सफल बना सकते हैं। इस तरह की बातों को हिकारत की नजरों से ना देखें, आचरण में लाएं। 

मेरा तो अनुभव यह है कि अधिकतर पढ़े-लिखे व्हाईट कालर वाले लोग ही इस प्रकार के कार्य को हिकारत की नजर से देखते हैं। यही लोग गरीबों को गंदगी, अस्वच्छता, कचरा फैलाने के लिए जिम्मेदार ठहराते हैं और अपने आचरण की ओर ध्यान देना या किसीके द्वारा आकर्षित किए जाने को अपनी तौहीन समझते हैं। उदाहरण के लिए कार में सफर करते समय पानी पीकर बोतल  चलती कार से बाहर सडक पर ही फैंक देते हैं। पापकार्न या अन्य कोई फास्ट फूड खाकर पैकेट या कागज की प्लेट आदि सडक पर फैंक देना आदि इसीमें शुमार होता है। इंदौर में एक वकील हैं वे हमेशा अपनी कार में एक डस्टबिन रखते हैं जिसमें वे सफर के दौरान किसी भी तरह का कचरा फिर वह फालतू कागज का टुकडा या केले का छिलका ही क्यों ना हो डाल देते हैं और बाद में गंतव्य या घर पहुंचने पर उसे कचरा पेटी के हवाले कर देते हैं। 

गरीबों के पास तो साधन, स्थान की कमी है इसलिए वे घर के बहुत से कार्य जैसे बर्तन मांजना, कपडे धोना यहां तक कि स्नान तक सडक से लगे घर के ओटलों पर करने के लिए बाध्य हैं। कभी-कभी वे अशिक्षा एवं अज्ञानवश भी ऐसे कुछ कार्य कर जाते हैं जिनसे अस्वच्छता फैलती है। परंतु, पढ़े-लिखे लोग स्वयं भी अस्वच्छता फैलाने में कुछ कम नहीं कई लोग रात का बचा हुआ भोजन गाय को खिलाने के नाम पर दूसरों के गेट के सामने बडे आराम से प्लास्टिक की थैली में बांधकर फैंक देते हैं इससे क्या हानि हो सकती है इस पर कई बार लिखा जा चूका है फिर भी ये लोग सुधरने का नाम ही नहीं लेते।

कचरा और गंदगी फैलाने में चाय, चाट-पकौडी के स्थान भी अग्रणी हैं। चाय पीने के डिस्पोजेबल प्लास्टिक के कप, दौने आदि बहुत अहम भूमिका निभाते हैं जिन्हें हम ही वहीं स्थित कचरा पेटी में डालने के स्थान पर उपयोग के पश्चात सडक पर ही फैंक देते हैं। सडक पर खाते हुए चलते-चलते पैकेट या कागज कहीं भी फैंक देना हमारी आदतों में शुमार है। युवा भी इस मामले में किसीसे पिछे नहीं। वे कागज, डिस्पोजेबल पेन, प्लास्टिक पैकेट, बोतलें, गुटके-सिगरेट के पैकेट, टुकडे, लायटर, चाकलेट के रैपर चाहे जहां फैंक देते हैं। बूढ़े भी कुछ कम नहीं वे चाहे जहां खंखाकर थूक देते हैं, सार्वजनिक वॉशबेसिन, मूत्रालयों में तो यह सहज ही दिख पडेगा कि थूके हुए पान-तंबाकू से लेकर थूक-कफ तक पडा हुआ है। 

वस्तुतः स्वच्छ भारत के नाम पर सभी ने औपचारिकता निभाई इस कारण स्वच्छता के नाम पर चारों ओर केवल शोर सुनाई पडा, अस्वच्छता वैसी की वैसी ही बरकरार है।