Sunday, 8 April 2012

गांधीजी का आदर्शवाद और व्यवहारवाद

हम पर सावरकरजी के विचारों का प्रभाव अधिक होने के कारण स्वाभाविक रुप से गांधीजी के विषय में हमारे विचार प्रतिकूल थे। आत्यंतिक अहिंसा, सत्य का और साधनशुचिता का अत्याग्रह समाज सुधार के विषय में सनातनी विचार, विज्ञान विरोध, हिंदू-मुस्लिम प्रश्न आदि के संबंध में हमारे विचार उनके विचारों से सहमत नहीं होते थे। हमें आदर्शवाद की अपेक्षा व्यवहारवाद अधिक पसंद है। परंतु, इधर कुछ समय से जैसे-जैसे हम गहराई में जाकर गांधीजी के विषय में विचार करने लगे, वैसे-वैसे ध्यान में आने लगा कि, गांधीजी जैसे ऊपर-ऊपर से आदर्शवादी दिखते हैं वैसे अंतर्यामी हैं नहीं। यह उनकी पोशाक के बारे में जितना सच है उतना ही वे बोलते रहे शब्दों के बारे में भी है। ऊपर से वे कितने भी आदर्शवादी लगें तो भी वस्तुतः पक्के व्यवहारवादी थे। उन्हें भगवान बुद्ध भी चाहिए था और आर्य चाणक्य भी चाहिए था। उनकी अपार लोकप्रियता का और घोर पराजय का एक कारण यह भी था। (उनके विचार आज कोई भी नहीं मानता, यह उनकी घोर पराजय है।)
गांधीजी को ठीक से समझ लेना हो तो उनके द्वारा निकाले गए उद्‌गारों को न देखते उनके मन में क्या था यह जान लेना पडता है। कई बार शब्दों से जो दिख पडता है उसके ठीक विरुद्ध जो उनके मन में था वह दिख पडता है। उनके शब्दों के पीछे जाने पर अपने धोखा खाने की संभावना अधिक रहती है। सिवाय शब्द कहें तो वे एकही विषय के संबंध में भिन्न और कुछ प्रसंगों में परस्पर विरुद्ध कहे हुए दिख पडते हैं। उनके मन में क्या था यह बहुधा संबंधित घटना घटित हो जाने के बाद पता चला है। गांधीजी के काल में उन्हें समझ लेना कठिन था। उन्हें समझ लेने के लिए आज का काल सर्वोत्तम है। ऊपर हमने जो कहा है, वह जल्द ही सभी वाचकों के ध्यान में आने की संभावना नही। कुछ उदाहरणों पर से यह ध्यान में आ जाएगा।

गांधीजी और विभाजन

अत्यंत महत्वपूर्ण मुद्दे के रुप में हम विभाजन को विचारार्थ लेंगे। गांधीजी का विभाजन के लिए कट्टर विरोध था, ऐसा सर्वत्र माना जाता है। 'देश के टुकडे होने के पूर्व मेरी देह के टुकडे करना होंगे", इस प्रकार के भावपूर्ण निकाले हुए उद्‌गार अनेकों के कानों में आज भी घूम रहे होंगे। परंतु, सचमुच उनके मन में क्या था?
भारत अखंड रहे यह लोकप्रिय भाषा भावनिक दृष्टि से उनके द्वारा व्यक्त किए जाने के बावजूद व्यवहारिक दृष्ट्या उन्हें अखंड भारत की अव्यवहार्यता ध्यान में आ गई थी। अखंड भारत की अपेक्षा दो खंडित देशों में हिंदू-मुसलमान अधिक सुख से रह सकेंगे इससे वे मन ही मन सहमत हो गए थे। विशेषतः अखंड भारत हिंदुओं के लिए अधिक उपद्रवकारक ठहरता, यह उन्होंने जान लिया था। वे ऊपरी तौर पर मुसलमानों की ओर से बोलते थे तो भी मन से उन्हें हिंदुओं के हितों की अधिक चिंता थी। परिणामतः वे जाहिररुप से अखंड भारत के विषय में भावपूर्ण उद्‌गार निकालते थे तो भी प्रत्यक्ष विभाजन की दृष्टि से उनके प्रयत्न चालू थे। डॉ. आंबेडकर सभी के और विशेष रुप से हिंदुओं के भले के लिए विभाजन करो कह रहे थे, ग्रंथ लिख रहे थे। गांधीजी के प्रयत्न भी उसी कारण से उसी दिशा में चल रहे थे; परंतु भाषा भर अखंड भारत की थी!

1931 से गांधीजी के विचार उद्‌धृत कर दिखाया जा सकता है कि, उन्होंने विभाजन के तत्त्व और संभाव्याता को मान्य कर लिया था। इन 17 वर्षों के काल में कांग्रेस के अनेक प्रस्ताव दिखाए जा सकते हैं कि, जिनमें कांग्रेस ने मुसलमानों के स्वयंनिर्णय का हक्क मान्य किया था; उनकी संपूर्ण संतुष्टि के सिवाय उन पर कोईसा भी संविधान कांग्रेस लादेगी नहीं इस प्रकार का अभिवचन दिया था। 23 मार्च 1940 को मुस्लिम लीग ने अधिकृतरुप से विभाजन की मांग का पाकिस्तान प्रस्ताव पारित किया और उसके 15 दिन बाद यानी 6 अप्रैल को गांधीजी ने 'हरिजन" में लिखा था कि, 8 करोड मुसलमानों को पाकिस्तान चाहिए हो तो दुनिया की कोई भी ताकत उन्हें इससे रोक नहीं सकती; सैन्य शक्ति के बल पर उन्हें रोकना मुझे मान्य नहीं। उसके बाद 1947 तक उन्होंने अनेक बार इसका पुनरुच्चार किया है। 1942 के 'भारत छोडो" प्रस्ताव के बाद के भाषण में उन्होंने जिन्ना को कहा था कि, उन्हें गर पाकिस्तान चाहिए हो तो वह कल ही मिल जाएगा, वह तो उनके जेब में ही है। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और उनके विश्वसनीय सहयोगी भूलाभाई देसाई और बाद में राजाजी ने गांधीजी द्वारा गुप्त रुप से दी सूचनानुसार विभाजन का स्पष्ट समर्थन किया था। लोगों की प्रतिक्रिया जान लेने के लिए गांधीजी ने यह खेल खेला था। इसके विरुद्ध तीव्र प्रतिक्रिया हुई थी, परंतु वह देसाई राजाजी के विरुद्ध थी। गांधीजी भर अखंड भारत का लोकप्रिय पक्ष प्रस्तुत कर रहे थे।

इतना ही नहीं तो जुलाई 1947 में कांग्रेस कार्यकारिणी में 3 जून को जब विभाजन का प्रस्ताव मंजूर नहीं हो रहा था, तब गांधीजी ने अपना सारा दबाव और पुण्याई खर्च कर वह प्रस्ताव स्वीकृत करवा लिया। यह प्रस्ताव कांग्रेस ने मान्य नहीं किया तो हम सब वरिष्ठ लोग कांग्रेस छोड देंगे ऐसी निर्णायक धमकी भी उन्होंने दी थी। इस प्रकार गांधीजी ने दो बातें एक साथ साध्य कर लीं। एक, वे अखंड भारत के पक्ष में हैं इस प्रकार की प्रतिमा निर्मित कर लोकप्रियता प्राप्त की; और दूसरा, प्रत्यक्ष विभाजन कार्यक्रम दबाव डालकर अंमल में लाकर देश का विशेषतः हिंदुओं का हित किया। गांधीजी मूलतः और अंतर्यामी हिंदुओं के हितकर्ता थे, परंतु बोलने की भाषा मुस्लिम समर्थक थी। गांधीजी की यह भूमिका ध्यान में न आने के कारण उनकी हत्या करने की मूर्खता और अधमता गोडसे ने की। विभाजन देश की दृष्टि से बीसवीं शताब्दी की सबसे भाग्यशाली घटना थी यह जिन्हें नहीं समझता, उन्हें गांधीजी समझना मुश्किल ही है।

गांधीजी हिंदू विरोधी थे, यह आक्षेप सतत लिया जाता है। अर्थात्‌ वे हमेशा ही मुस्लिमों के पक्ष में और हिंदुओं के विरोध में बोलते थे यह दिखला दिया जाता है। हिंदुओं को अथवा उनमें से कुछ को ऐसा लगता है कि, मुसलमान संगठित होने के कारण और उस जोर पर नाजायज मांगे कर वे हिंदुओं पर अन्याय करते हैं। इसलिए गांधीजी को हिंदुओं का पक्ष लेना चाहिए था, उन्हें संगठित करना था, मुस्लिमों का प्रतिकार करना चाहिए था। गांधीजी को यह समझता नहीं था ऐसा नहीं। "हिंदू डरपोक हैं तो मुसलमान अडियल हैं", इस आशय के उनके विधान इसके गवाह हैं। तथापि उन्होंने इस नीति का समर्थन न करते बल्ले थपथपाने वाले छोटे भाई के पक्ष में होने की नीति स्वीकार की। इसमें गांधीजी की गलती कितनी है?

गांधीजी यानी हिंदू मानस

ऊपर व्यक्त की गई अपेक्षा योग्य है, परंतु उसकी फलश्रुती असंभव थी। हिंदुओं की अपेक्षा ऐसी थी कि गांधीजी ने वीर सावरकर के समान ही हिंदू हित का और हिंदू संगठन का समर्थन करना चाहिए था। अगर उन्होंने ऐसा किया होता तो गांधीजी का सावरकर हो जाता। वे संकुचित और साम्प्रदायिक घोषित हो जाते। वे महात्मा, देश के एकमेव और लोकप्रिय नेता न बनते। इसलिए प्रश्न केवल गांधीजी को क्या लगता था इसका नहीं था अपितु हिंदू किस बात से सहमत होंगे यह था। वह हिंदुओं को पसंद आएगा क्या? वे अपनी सुनेंगे क्या? वे संगठित होंगे क्या? उनके हिंदू स्वभाव से वह मेल खाएगा क्या? उन्हें सफलता मिलेगी क्या? यह प्रश्न महत्वपूर्ण हैं। गांधीजी को हिंदूमानस पूरी तरह से मालूम था। इस प्रकार से समझाते बैठने से हिंदू सहमत होंगे नहीं; हिंदुओं में बदलाव आएगा नहीं; उलटे इसके कारण लोग अपने को सांप्रदायिक और संकुचित कहेंगे। परिणामतः मुसलमान भी दूर जाएंगे और हिंदू भी दूर जाएंगे यह उन्हें समझ में आ गया था। सावरकरजी का पराजित होनेवाला मार्ग स्वीकारने की बजाए उन्होंने हिंदुओं के स्वभाव से मेल खानेवाला मार्ग स्वीकारा। इसलिए वे देश के एकमात्र नेता बने, महात्मा बने, राष्ट्रपिता बने! इस में गांधीजी की कहां गलती हुई?

इस देश में यहां की जनता की नाडी जिन्होंने अचूक पकडी ऐसे एकमेव नेता 'गांधीजी" थे! उनके कहने में, लेखन में यह बातें नहीं मिलती। इसकी तात्त्विक या तार्किक चर्चा भी उन्होंने कभी नहीं की। परंतु, उन्होंने स्वीकारी हुई नीति और निर्णयों पर से यह बात अभ्यासकों के ध्यान आती है। जनता की नाडी पकडने के कारण वे जनता की भाषा में बोल सके; उनके मानस में; ह्रदय में प्रवेश कर सके। अपने दिल की बात ही गांधीजी बोलते हैं, ऐसा लोगों को लगने लगा। अर्थात्‌ यह जनता हिंदू थी। मुसलमानों को गांधीजी का कुछ भी जंचना संभव नहीं था। कांगे्रस विरोधी मुस्लिम लीग तो गांधीजी को 'हिंदू नेता" के रुप में ही संबोधित करती  थी; परंतु कांग्रेस के नेता और मोहम्मद अली भी कहते थे कि किसी भी बुरे (यानी चोर, व्यभिचारी आदि) मुसलमान की अपेक्षा  गांधीजी अधिक बुरे हैं। गांधीजी कहते थे कि मैं यानी हिंदू मानस; हिंदू मानस को जो लगता है वही मुझे लगता है।

संक्षेप में, गांधीजी का मन, भावना, विचार, नीति, कार्य आचार यानी दूसरा तीसरा कुछ न होकर 'हिंदू मानस का ही आविष्कार" था। गांधीजी के जो गुण थे, वे हिंदुओं के गुण थे; जो दोष थे, वे हिंदुओं के दोष थे। उनसे जो गलतियां हुई, वे हिंदुओं की गलतियां थी। गांधीजी हिंदू न होते तो इस प्रकार का व्यवहार करते ही नहीं, व्यवहार कर पाते ही नहीं। गांधीजी की आलोचना करने के पूर्व  हिंदू मानस समझ लेने की आवश्यकता है। सावरकरजी जिंदगी भर हिंदुओं के पक्ष में बोलते रहे; हिंदुओं को उनके मानस के विरुद्ध व्यवहार करने का उपदेश दिया। वे हिंदुत्ववादी होने पर भी उनके विचार और व्यवहार हिंदू मानस के विरुद्ध थे। उन्होंने हिंदुओं के मानस को ही बदलने का प्रयत्न किया। मानस कुछ बदला नहीं। सावरकरजी हिंदुओं से दूर फिंका गए। हिंदू हित की बात कहकर, उन्हें संगठित होने का उपदेश कर, उनमें कट्टरता की भावना निर्मित करने का प्रयत्न कर गांधीजी को सावरकरजी के समान पराजित होना चाहिए था, यह अपेक्षा गलत और अन्यायकारी ठहरती है।

समाज सुधारक गांधीजी

समाज सुधार के बारे में भी गांधीजी सनातन विचारों के थे, ऐसा आक्षेप लिया जाता है। यह सच है कि, वे स्वयं को सनातनी हिंदू समझते; धर्मप्रामाण्य मानते; चातुर्वण्य पर श्रद्धा रखते थे; व्यवसाय जातिनुसार होना चाहिए ऐसा कहते थे; मंदिर प्रवेश के लिए सत्याग्रह करने का विरोध करते थे। समाज सुधार में केवल अस्पृश्यता उन्हें मान्य नहीं थी। अस्पृश्यता निवारण को उन्होंने अपने कार्य भाग बनाया था। यहां भी हिंदू समाज को क्या पसंद है वह करने की उनकी नीति थी। अर्थात्‌ अपवाद अस्पृश्यता का। हिंदू धर्मभावना को ठेस पहुंचाने की उनकी इच्छा नहीं थी। चातुर्वण्य और जातिभेद पर कठोर प्रहार करके उन्हें हिंदू भावनाओं को आघात नहीं पहुंचाना था। हिंदू मानस जिससे सहमत होता है, जो उसे हजम होता है वही वे बोलते रहे। उन्हें समाजक्रांतिकारक अथवा समाज सुधारक नहीं बनना था। वह अलोकप्रियता का मार्ग था। उन्हें सारे देश का अनिभिषिक्त नेता बनना था। लोगों के ह्रदयों पर राज करना था। इस रीति से उन्होंने सनातनी हिंदू मानस को जीता था। रा. स्व. से. संघ को सावरकरजी की बजाए गांधीजी निकटस्थ क्यों लगते हैं इसका.एक कारण यही है।

अब प्रश्न यह खडा होता है कि, सचमुच गांधीजी को दिल से धर्म प्रामाण्य, चातुर्वण्य, जन्मजात जाति संस्था, जातिनुसार व्यवसाय मान्य थे क्या? अस्पृश्यों के मंदिर प्रवेश पर उनका विरोध था क्या? इसका स्पष्ट उत्तर यह है कि, उन्हें दिल से यह कुछ भी मान्य नहीं था। इस मामले में विचारों से वे बिल्कुल आधुनिक थे। उन्हें अंतरजातिय विवाह भी मान्य थे। अंतरजातिय विवाह हो तो ही वे उस विवाह समारोह में जाते थे। प्रत्यक्ष तौर पर धर्मग्रंथ की एक भी बात उन्होंने व्यवहार में प्रमाण मानी नहीं थी।  वे व्यवहार में पूर्णतः 'आधुनिक और पुरोगामी" थे, परंतु शब्दों और भाषा में 'सनातनी" थे। उन्हें सुधार चाहिए था और लोकमत का आदर भी करना था। उनकी लोकप्रियता का यही रहस्य है। गांधीजी की प्रत्येक बात की ओर इस दृष्टि से देखा जा सकता है। शब्दों में आशीर्वाद, परंतु आचरण में व्यवहारवाद इस प्रकार का उनका मार्गक्रमण था। उनके आदर्शवाद ने लोगों को मोह लिया; उनकी सादगी कारण वे लोगों को संत लगे। सामान्यों के सामान्य दुख की भी आवाज उठाने कारण सामान्यों को वे देवदूत लगे। हिमालय जितनी बडी गलती हो जाने पर भी उसे जाहिर रुप से मान्य कर लेने के कारण लोगों को वे निस्पृह, निर्मल ह्रदय के और सच्चे लगते थे। हिंदुओं ने अनेक महापुरुष इतिहास काल में देखे थे। परंतु, यह सारे धर्मपुरुष थे। धर्म की परिधि में ही वे उपदेश करते थे। राजनीति, सामाजिक नीति, अर्थ नीति आदि जीवन के सभी क्षेत्रों में उपदेश करनेवाला ऐसा महापुरुष हिंदुओं ने कभी देखा नहीं था। व्यव्हार में उन्होंने बडे-बडे व्यक्तियों को अपना अनुयायी बनाया था। स्वयं को सहमत न होते हुए भी अंत तक उन्हें टिकाए रखा था। व्यवहारवादी अनुयायियों ने गांधीजी का आदर्शवाद शब्दों में रहने दिया और उससे देश को हानि न होने दी। व्यवहारवाद का दामन थामा और उसके फल भी गांधीजी की ही झोली में डाले। इस प्रकार से गांधीजी को दोहरा लाभ हुआ - वे महात्मा बने, राष्ट्रपिता बने!

( शेषराव मोरे, नांदेड 'विचार कलह" से साभार अनुदित)

No comments:

Post a Comment